udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news पर्यटन दिवस पर राज्य को मिली नई पर्यटन नीति

पर्यटन दिवस पर राज्य को मिली नई पर्यटन नीति

Spread the love

देहरादूनः राज्य की बहुप्रतीक्षित पर्यटन नीति को कैबिनेट में स्वीकृति प्रदान कर दी गई।पर्यटन को उद्योग का दर्जा मिलन के बादनई पर्यटन नीति के अन्तर्गत पर्यटन क्षेत्र के निवेशकों तथा परियोजना इकाईयों को वे सभी लाभ तथा प्रोत्साहन प्राप्त हो सकेंगे, जो राज्य में अन्य उद्योगों को प्राप्त हैं।

 

नई नीति के अन्तर्गत होटल, रिजॉर्ट, योगा, आरोग्य, स्पा आयुर्वेद तथा प्राकृतिक चिकित्सा रिजॉर्ट, ईको-लांज, रेस्टोरेन्ट, पार्किंग स्थल, मनोरंजन पार्क, कन्वेंशन केन्द्र, त्यौहार, साहसिक गतिविधियां (टैªकिंग, पैराग्लाईडिंग, वाटर एवं एयरो स्पोटर्स आदि), रोप-वे, कैरावन, एयर टैक्सी, हस्तशिल्प, जनरल सफारी, सर्विस अपार्टमेन्ट आदि कुल 28 पर्यटन गतिविधियों को पात्र इकाई माना गया है।

 

इस नीति के अन्तर्गत राज्य में पर्यटन सम्बन्धी गतिविधियों/परियोजनाओं के पंजीकरण तथा प्रोसेसिंग के लिए उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद नियामक/नोडल संस्था होगी। निजी क्षेत्र की बड़ी पर्यटन योजनाओं तथा पर्यटन विभाग के भूमि बैंक अथवा वर्तमान परिसम्पतियां हेतु चिन्हित योजनाओं के पंजीकरण तथा आरम्भिक प्रोसेसिंग (स्वीकृति, लाईसेंस, अनापत्ति प्रमाण-पत्र आदि) के पश्चात् उन्हें अनुमोदन हेतु मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली उच्च २ाक्ति अधिकार युक्त समिति ;भ्च्म्ब्द्धको प्रेषित किया जायेगा।

राज्य के पर्यटन मंत्री श्री सतपाल महाराज ने इस अवसर पर पर्यटन क्षेत्र से जुड़े समस्त स्टेक होल्डर्स को हार्दिक बधाई प्रेषित की है। उन्होंने कहा कि पर्यटन दिवस के अवसर पर यह पर्यटन राज्य की गणमान्य जनता को राज्य सरकार का एक तोहफा है।

 

इस नीति का उद्देश्य राज्य को सुरक्षित और पर्यटक मित्र गंतव्य के रूप में विकसित एवं मजबूत करना है। इसके अतिरिक्त राज्य में नये पर्यटक गन्तव्य स्थलोंएवं विशेष पर्यटक उत्पादों को विकसित करते हुए पर्यटक गतंव्यों पर आवश्यक मूलभूत सुविधाएं सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि नीति के मूल में समावेशी तथा संतुलित क्षेत्रीय विकास की भावना निहित है।

सचिव पर्यटन श्री दिलीप जावलकर ने बताया कि नई नीति की वैधता जारी होने से पांच साल की अवधि के लिए होगी और प्रत्येक नीति का प्रत्येक 2 वर्ष बाद व्यापक रूप से अवलोकन करने के उपरान्त आवश्यक संशोधन किये जायेेंगे।उन्होंने कहा कि प्रस्तावित नीति के अनुसार उत्तराखण्ड़ पर्यटन विकास परिषद प्रत्येक जनपद में पर्यटन के उद्देश्य के लिए भूमि बैंक तैयार करेगा।

 

निवेशकों की सुगमता के लिए विभाग द्वारा एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति की जाएगी जो कि आवेदनकर्ताओं के साथ उनकी परियोजना पर एकल खिड़की पोर्टल से आवश्यक स्वीकृति, लाइसेंस, अनापत्ति प्रमाण पत्र एवं भ्च्म्ब् से अनुमोदन प्राप्त करने के लिये समन्वयन का कार्य करेगा।

 

उन्होंने बताया कि भ्च्म्ब्वर्ष में कम से कम तीन (03) बार बैठक करेगी। भ्च्म्ब्के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए उत्तराखण्ड़ पर्यटन विकास परिषद एक परियोजना प्रबन्धन इकाई ;च्तवहंतंउ डंदंहमउमदज न्दपजद्ध का गठन करेगी।

नीति के प्रमुख वित्तीय आकर्षणः-
ऽ 10 करोड़ रूपये की परियोजना लागत हेतुएम0एस0एम0ई0 नीति, 2015 के तहत उद्योग के समान आकर्षक प्रोत्साहन एवं सब्सिडी।

ऽ 10 करोड़ से अधिक और रू0 50 करोड़ तक हो, को प्रोत्साहित करने के लिये मेगा इण्डस्ट्रियल इन्वेस्टमेन्ट पॉलिसी, 2015 एवं समय-समय पर यथासंशोधित एवं लागू नीति के समान आकर्षक प्रोत्साहन एवं सब्सिडी।

ऽ बृहद ;डमहंद्ध पर्यटन परियोजनायें जहां परियोजना लागत/पूंजीगत निवेश रू0 50 करोड़ से अधिक है, को भी निवेश की सीमा के अनुसारलार्ज, मेगा अथवा अल्ट्रा मेगा जैसा भी एप्लीकेवल हो इण्डस्ट्रियल इन्वेस्टमेन्ट पॉलिसी, 2015 के समान आकर्षक प्रोत्साहन एवं सब्सिडी।

ऽ 10 करोड़ से अधिक निवेश पर्यटन इकाईयों को आयुष निवेश नीति के अन्तर्गत अनुमन्य पूंजीगत अनुदान।
अर्हता की आवश्यक २ार्तेंः-

ऽ सिंगल विंडो सिस्टम पर पंजीकरण।

ऽ स्थापित क्षमता की कम से कम 10 प्रतिशत ऊर्जा अक्षय ऊर्जा स्रोतों के माध्यम से प्राप्त की जानी होगी।
ऽ पर्याप्त सहायक ढांचागत सुविधायें जैसे-पार्किंग, सुरक्षा, इत्यादि की अनिवार्यता।

इसके अतिरिक्त सब्सिडी से अर्जित कुल लाभ परियोजना की लागत से अधिक नहीं हो सकेगा। लाभार्थी के लिये अगले 5 वर्षों तक पर्यटन इकाई का संचालन करना अनिवार्य होगा।यदि कोई पर्यटन इकाई उपरोक्त २ार्तों का पालन नहीं करती है तो उसे दी गयी सब्सिडी को 15 प्रतिशत ब्याज दर से राज्य को लौटाना होगा और ऐसा न करने की दशा में राज्य द्वारा दी गयी धनराशि को वसूल करने के लिये उस पर उपयुक्त कार्यवाही की जा सकेगी।

 

जो भी पर्यटन इकाई सब्सिडी प्राप्त करेगी उसे संचालन संबंधित, रोजगार सृजन, ऑडिटेड लेखा विवरण एवं प्राप्त प्रोत्साहनों का विवरण पर्यटन विभाग को या विभाग द्वारा नियुक्त किसी भी एजेन्सी को वार्षिक आधार पर रिपोर्ट के रूप में प्रेषित करना होगा।