udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news पशुपालन क्षेत्र में बदलाव लाने की जरूरत: चौधरी

पशुपालन क्षेत्र में बदलाव लाने की जरूरत: चौधरी

Spread the love

नगरासू गांव में पशु प्रदर्शनी का आयोजन,धन सिंह को मिला सर्वोच्च पशु प्रद्रर्शनी का पुरस्कार

रुद्र्रप्रयाग। पशुपालन विभाग की ओर से विकासखण्ड अगस्त्यमुनि के ग्राम नगरासू में पशु प्रदर्शनी का आयोजन किया गया, जिसमें क्षेत्र के पशुपालकों ने अपने पशुओं के साथ विभिन्न श्रेणियों में आयोजित प्रदर्शनी में प्रतिभाग किया। पशु प्रदर्शनी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि क्षेत्रीय विधायक भरत सिंह चौधरी ने कहा कि सरकार का लक्ष्य 2022 तक आय को दोगुना करना है, लेकिन यदि ईमानदारी से प्रत्येक पशुपालक पशुपालन का कार्य करे तो आय चारगुना बढ़ सकती है।

 

विधायक चौधरी ने कहा कि जिस तरह से वर्तमान युग में हम निश्चित अंतराल में मोबाइल, रहन-सहन, खान-पान, कला संस्कृति में बदलाव ला रहे हैं। यदि इसी प्रकार अपनी मानसिकता बदलकर कार्य संस्कृति में बदलाव लाकर पशुपालन, कृषि का कार्य करेंगे तो निश्चित ही आजीविका में सुधार आएगा व रोजगार की समस्या समाप्त होगी। विधायक श्री चौधरी ने जिलाधिकारी की तारीफ करते हुए कहा कि जिलाधिकारी के नेतृत्व में जिले के सभी अधिकारी अच्छा कार्य कर रहे हैं।

 

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने पशुपालकों को विभागीय योजना का लाभ उठाने के साथ ही अच्छी नस्ल के पशु पालने का सुझाव दिया। कहा कि बैकयार्ड कुक्कुट पालन योजना का मनरेगा से कन्वर्जेन्स कर पशुपालकों के लिए मुर्गीबाड़ा का निर्माण किया जा सकता है। इसके साथ ही ऐसा करने से एक यूनिट में 50 चूजे के स्थान पर इच्छुक लाभार्थी को अधिक चूजे दिए जा सकते हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि पशुपालन विभाग द्वारा इस माह मुर्गीपालन का प्रशिक्षण दिया जा रहा है व अगले माह चयनित 950 लाभार्थियों को चूजे वितरित किए जाएगें जिससे लोगों की आजीविका में सुधार आएगा।

 

पशु प्रदर्शनी में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ रमेश सिंह नितवाल ने पशुपालकों को पशुपालन संबधी व विभाग द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओ की जानकारियां दी।कार्यक्रम में पशुपालकों को पशुओं को होने वाले रोगो से रोकथाम की जानकारी भी दी गई। पशु प्रदर्शनी में आये पशुओं का पांच वर्गो स्वदेशी गाय, विदेशी गाय, महेशवंशीय, बछिया पालन व बैल जोडी में मूल्यांकन कर प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले पशुपालकों को दूध की बाल्टी देकर पुरूस्कृत किया गया।

 

पशु प्रद्रर्शनी में सर्वोच्च पशु का पुरूस्कार धन सिंह को दिया गया। इस अवसर पर ग्राम प्रधान नगरासू उषा रावत, छिनका मनोज कण्डारी, पशु चिकित्साधिकारी डॉ राजीव कुमार, रवि कुमार सुशोभित उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन चीफ वेटनरी फार्मासिस्ट चन्द्र सिंह रावत ने किया।