udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news मौजूदा हालातों में कांगे्रस के सामने असमंजता के हालात

मौजूदा हालातों में कांगे्स के सामने असमंजता के हालात

Spread the love

पीडीएफ विधायक निर्दलीय या कांगे्रस के बैनर पर लड़ेंगे चुनाव
देहरादून । मुख्यमंत्री हरीश रावत और प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय पिछले दिनों कांग्रेस प्रत्याशियों की जल्द घोषणा की बात कर चुके हैं। हालांकि स्पष्ट है कि कांगे्स सभी सत्तर विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। मगर संशय की स्थिति प्रत्याशियों के नाम को लेकर इस ओर बन रही कि 2012 से सरकार के सहयोगी रहे पीडीएफ विधायक क्या कांगे्रस के बैनर तले चुनाव लडऩे में हामि भरेंगे। हालांकि कहा यही जा रहा कि पार्टी पीडीएफ विधायकों को कांगे्रस के बैनर तले चुनाव लड़ाने की मंशा रखती है। उल्लेखनीय रहे कि विाानसभा चुनाव में प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक फ्रंट (पीडीएफ) के दो विधायक निर्दलीय चुनाव लडऩे का पूर्व में एलान कर चुके हैं। जिससे मौजूदा हालातों में कांगे्रस के सामने असमंजता के हालात बढ़ गए हैं।
कांग्रेस संगठन पहले ही सभी 70 सीटों पर पाटीँ सिंबल पर चुनाव लडने का ऐलान कर चुका है। अब मुख्यमंत्री भी पीडीएफ विधायकों के पाटीँ सिंबल पर चुनाव लडने पर चुप्पी साध रहे हैं। हालांकि, वे इस बात को दोहराने से नहीं चूक रहे कि कांग्रेस व पीडीएफ साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। पीडीएफ के तीन निर्दलीय विाायकों में से दो काबीना मंत्री प्रीतम पंवार और दिनेश धनै निर्दलीय चुनाव लडने का ऐलान कर चुके हैं। इन दोनों ही विधायकों को मनाने के लिए कांग्रेस यहां तक कि स्वयं मुख्यमंत्री भी तमाम प्रयास कर चुके हैं लेकिन ये दोनों विधायक अपनी बात पर अडिग हैं। यह स्थिति कांग्रेस संगठन को दुविधा में डाले हुए है।

पीडीएफ विधायकों के निर्दलीय चुनाव लडऩे की स्थिति में कांग्रेस संगठन खुद को बेहद असहज महसूस कर रहा है। माना जा रहा है कि अब मामला हाईकमान के सामने रखा जाएगा, वहीं इस मसले पर अंतिम फैसला होगा। वहीं बताया जाता है कि मंत्री प्रसाद नैथानी व हरीश चंद्र दुर्गापाल कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडऩे को तैयार हैं। वहीं विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस प्रत्याशियों की सूची को अंतिम रूप देने के लिए कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में गहन मंथन किया गया। बैठक में सूची को अंतिम रूप देकर केंद्रीय चुनाव समिति (सीइसी) को भेज दी गई है। सीइसी की प्रस्तावित बैठक में प्रत्याशियों के नाम पर अंतिम मुहर लगने की उम्मीद है। उल्लेखनीय रहे कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री कह चुके हैं कि कांगे्रस प्रत्याशियों के नाम की घोषणा 15 जनवरी तक कर दी जाएगी। बताया जाता है कि पार्टी और संगठन नेता भी चाहते हंै कि विधानसभा चुनाव की तैयारियों के लिए रणनीति बनाने का भरपूर मौका मिल सके, इसलिए 15 जनवरी तक प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी जाए।

मुख्यमंत्री हरीश रावत पहले ही सभी 70 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम पर लगभग सहमति बनने की बात कह चुके हैं तो वहीं किशोर उपाध्याय ने 63 सीटों पर नाम फाइनल होने की बात कही है। जिन सात सीटों पर अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है वे सीटें पीडीएफ और अन्य की हैं। इसी सूची को अंतिम रूप देने के लिए कांग्रेसी नेत्री कुमारी शैलजा की अध्यक्षता में बीती रात्रि को दिल्ली में बैठक हुई। बैठक में विधानसभावार प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा की गई। सूत्रों के अनुसार बैठक में पीडीएफ के मसले पर भी गहन मंथन किया गया। सीइसी की बैठक में स्क्रीनिंग कमेटी से प्राप्त सूची पर जोरदार मंथन चला।