पीआरडी और होमगार्ड के जवानों को भी मिलेगा हाई एल्टीट्यूड भत्ता

Spread the love

बिना अनुमति के अभियंता छुट्टी पर न जांये ,मयाली-गुप्तकाशी मोटर मार्ग पर घटिये कार्य की शिकायत पर गुणवत्ता की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के दिये निर्देश

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ यात्रा में ड्यूटी करने वाले होमगार्ड एवं पीआरडी के जवानों को भी पुलिस की भांति अब प्रतिदिन यात्रा व्यवस्था से हाई एल्टीट्यूड भत्ता मिलेगा। जिला सभागार में आयोजित बैठक में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि पहले पुलिस व अन्य विभागीय कर्मचारियों और अधिकारियों को ही यात्रा के दौरान ड्यूटी करने पर भत्ता अनुमन्य था, लेकिन अब होमगार्ड और पीआरडी को भी यह सुविधा प्रदान की जाएगी।

 

उन्होंने यात्रा मार्ग पर नियुक्त होने वाले विभागों के कार्मिकएवं अधिकारियों की सूची पांच अप्रैल तक प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि यात्रा से जुडे सभी विभागीय अधिकारी जल्द से जल्द यात्रा मार्ग का निरीक्षण कर लें, ताकि समयवद्ध तरीके से सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद हो सके।

यात्रा व्यवस्था की बैठक लेते हुए जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता को आवश्यक कार्य होने पर भी बिना अनुमति के देहरादून व छुट्टी न जाने के निर्देश दिए। कहा कि यात्रा शुरू होने से पूर्व एनएच मार्ग के समस्त बोल्डर हटाकर, रोलर लगाकर, गडढे भरकर पैच लैस व आवश्यकता अनुरूप ब्लैक टॉप कर दुरूस्त करने के निर्देश दिए।

 

समस्त मोटर मार्ग पर संबंधित उपजिलाधिकारी व पुलिस उपाधीक्षक को मार्ग का निरीक्षण कर रिपोर्ट प्रेषित करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि लोनिवि द्वारा निर्मित मयाली-गुप्तकाशी मोटर मार्ग पर घटिये कार्य की लगातार शिकायत प्राप्त हो रही है इस संबंध में संबंधित एसडीएम व सीओ को कार्य की गुणवत्ता की रिपोर्ट प्रेषित करने को कहा। जिलाधिकारी ने कहा कि आपदा कन्ट्रोल रूम में ड्यूटी के दौरान कोई सोता हुआ पाया गया व फोन नहीं उठने पर संबंधित कर्मचारी के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।

 

परिवहन विभाग की समीक्षा के दौरान एआरटीओ को यात्रा मार्ग के साथ ही लोकल मार्ग पर भी वाहनों की व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए। कहा कि परिवहन विभाग प्लॉन तैयार करें कि किस रूट पर कितनी गाडी चलेगी। साथ ही सोनप्रयाग से गौरीकुण्ड से चलने वाली शटल सेवा को सीतापुर से गौरीकुण्ड तक भी शटल सेवा शुरू करने के निर्देश दिए। इस वर्ष यात्रा के दौरान चलने वाली शटल सेवा के समस्त चालक की डिटेल निर्धारित प्रारूप पर वाहनों में चस्पा करने के निर्देश दिए।

 

रामबाड़ा से केदारनाथ तक पैदल मार्ग पर यात्रियों के विश्राम के लिए बैेंच व घोडे से यात्रा करने वालो के लिए घोडे-खच्चर में चढने उतरने के लिए स्टेप तैयार करने, शार्ट कट रास्तों की मरम्मत के निर्देश डीडीएमए को दिए। कहा कि पन्द्रह दिन में सभी एमआरपी तैयार कर स्वास्थ्य विभाग को हैंड ओवर कर दी जाएगी। पर्यटन विभाग को यात्रियों के पंजीकरण के लिए सोनप्रयाग में काउंटरों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए, जिससे यात्रियों को इंतजार न करना पडे़।

 

इस वर्ष जनपद के मुख्य होटल व जीएमवीएन में सप्ताह मंे एक दिन पांरपरिक नृत्य के साथ ही यात्रियों के स्वागत में स्थानीय जूस दिया जाएगा। घोडे खच्च्र के संचालन के लिए दस अप्रैल से पंजीकरण शरू किया जाएगा। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डीआर जोशी, अपर जिलाधिकारी गिरिश गुणवन्त, एसडीएम सदर देवानन्द, जखोली देवमूर्ति यादव, परियोजना निदेशक एनएस रावत, एसीएमओ डॉ ओपी आर्य, सीवाीओ डॉ रमेश सिंह नितवाल, पुलिस उपाधीक्षक श्रीधर बडोला सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।