udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news फतवा : मुस्लिम महिला सोशल मीडिया पर है तो वह है हराम !

फतवा : मुस्लिम महिला सोशल मीडिया पर है तो वह है हराम !

Spread the love

इस्लामिक संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा ! आखिर क्यों!

उदय दिनमान डेस्कः फतवा : मुस्लिम महिला सोशल मीडिया पर है तो वह है हराम ! इस्लामिक संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा ! आखिर क्यों! आप खुद ही सोचिएगा कि आखिर बार-बार महिलाओं को लेकर ऐसे फतवे जारी करने से हमारे समाज में यह धर्म के नाम पर जबरदस्ती नहीं है तो ओर क्या है।

 

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि वर्तमान समय में सोशल मीउिया ने पूरे संसार को एकसाथ सभी को एकसूत्र में बांध रखा है और इसका लोग अपनों से मिलने और अपनो को अपनों से मिलने के लिए अच्छा प्लेर्फाम के साथ-साथ अपनी बात को रखने का भी सभी ने इसे मंच बनाया हुआ है।इसके माध्यम से लोग आज आपस में जुडे ुए हैं।

 

हमारा देश विविधताओं में एकता का प्रतीक है और यहां हर धर्म अपने आप में अलग व अमिट छाप छोडे है। वही कुछ धर्मां में अपवाद भी है।  इस्लामिक संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने सोशल मीडिया पर फोटो लगाने या शेयर करने को हराम करार दिया है। इसके लिए फतवा भी जारी किया गया है।

 

यह फतवा उस सवाल के जवाब में आया है, जिसमें एक शख्स ने लिखित में पूछा था कि क्या फेसबुक और वाट्सऐपर पर अपनी या पत्नी का फोटो अपलोड करना इस्लाम में वाजिब है? इसके जवाब में फतवा विभाग ने स्पष्ट कहा कि मुस्लिम पुरुषों और महिला अपनी या अपने परिवार की फोटो फेसबुक, वाट्सऐप या किसी भी सोशल साइट पर अपलोड या शेयर करना इस्लाम में वाजिब नहीं है।

 

दारुल उलूम की ओर से कहा गया है कि यह फतवा जारी तो सिर्फ एक व्यक्ति के लिए हुआ है लेकिन यह दुनिया भर के सभी मुस्लिमों के लिए हैं।विभाग का कहना है कि पूरी दुनिया के लोग आपस में सोशल मीडिया से जुड़े हुए हैं।

 

इस मसले पर मदरसा जामिया, हुसैनिया के मुफ्ती तारीख कासमी ने कहा कि यह फतवा बिल्कुल सही है। उन्होंने कहा कि इस्लाम के अनुसार फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया साइट्स पर अपनी या पत्नी या फिर किसी भी अन्य महिला की फोटो अपलोड करना या शेयर करना नाजायज है।