udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news उत्तराखंड में 900 किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण

उत्तराखंड में 900 किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण

Spread the love

केदारनाथ आपदा में मरे लोगों को श्रद्धांजलि : पीएम

 

चारधाम प्रोजेक्ट के तहत उत्तराखंड में 900 किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण किया जाना है। इसपर 12,000 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। इन रास्तों पर 132 पुल, 13 बाई पास और 2 खास टनल बनाए जाएंगे। साथ ही इसके तहत बनने वाले सभी राष्ट्रीय राजमार्ग दो लेन के होंगे और इनकी न्यूनतम चौड़ाई 10 मीटर होगी।

पहला हाइवेः पहला हाइवे ऋषिकेश से शुरू होगा जो रूद्रप्रयाग तक जाएगा। रूद्रप्रयाग से आगे एक रास्ता बद्रीनाथ तक जाएगा और दूसरा गौरीकुंड होते हुए केदारनाथ तक पहुंचेगा। इस हाइवे को बनाने में 4784 करोड़ का खर्च आएगा।

दूसरा हाइवेः दूसरा हाइवे ऋषिकेश से शुरू होगा और धारासू तक पहुंचेगा। फिर धारासू से आगे बढ़ता हुआ एक रास्ता गंगा की उद्गम स्थली गंगोत्री तक पहुंचेगा और दूसरा यमुना के उद्गम स्थान यमुनोत्री तक पहुंचेगा। इस हाइवे को बनाने में 5626.5 करोड़ का खर्च आएगा।

तीसरा हाइवेः तीसरा हाइवे टनकपुर से पिथौरागढ़ तक पहुंचेगा। ये नेशनल हाइवे नंबर 125 होगा। जिसे बनाने में 1557 करोड़ का खर्च आएगा।

इन राष्ट्रीय राजमार्गों के बनने के बाद सिखों के धर्म स्थल हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी यानी वैली ऑफ फ्लावर्स और ऑली जैसी जगहों तक पहुंचना भी आसान हो जाएगा।

इन राजमार्गों के दोनों तरफ पैदल पट्टी होगी। रास्ते में किसी तरह की अड़चन न हो इसके लिए जगह-जगह सुरंग, बाईपास, छोटे- बड़े पुलों और सब-वे बनाए जाएंगे। बरसात के मौसम में भूस्खलन से बचाने के लिए अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। चारधाम महामार्ग परियोजना के रास्ते में जगह-जगह मोटल, रेस्त्रां के अलावा गाड़ियों की पार्किंग का इंतज़ाम होगा।

हादसों के दौरान लोगों को हेलीकॉप्टर से निकालने के लिए हेलीपैड भी बनाए जाएंगे। सुरंगों और छोटे रास्तों के जरिये चारों धाम के बीच की दूरी को 813 किमी से घटाकर 389 किमी तक किया जाना है।