udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news पूरा पुलिस तंत्र मैदान में ,मोबाइल के नम्बरों से डकैतों की तलाश शुरू

पूरा पुलिस तंत्र मैदान में ,मोबाइल के नम्बरों से डकैतों की तलाश शुरू

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देहरादून । डालनवाला इलाके में हुई लाखों की लूट के मामले में जनपद का पूरा पुलिस तंत्र मैदान में उतरा हुआ है और जिस तेजी के साथ पुलिस टीमें डकैतों को खोजने में लगी हुई थी उससे अंदाजा लग रहा था कि शायद आने वाले चंद समय में डकैती की घटना का खुलासा हो जायेगा हालांकि जिस दिशा में पुलिस आगे बढ़ी हुई थी उस पर आगे चलकर पुलिस को झटका लगा क्योंकि उसका इस डकैती से कोई लेनादेना नहीं था।

 
डकैती की वारदात के लम्बे समय बाद भी डकैतों का कुछ पता नहीं चल पाया और अब पुलिस की टीमें कुछ मोबाइल नम्बरों के सहारे डकैतों को खोजने के लिए अपनी मुहिम में जुटी हुई है। इस मिशन में उसे कामयाबी मिलेगी भी कि नही,ं यह तो आने वाला समय ही बतायेगा लेकिन जिस तरह से डकैतों ने वारदात के बाद लूटे गये मोबाइलों को बंद करके रखा हुआ है उससे साफ संदेश जा रहा है कि वारदात को अंजाम देने वाला गैंग काफी शातिर है।

 
उल्लेखनीय है कि कुछ समय पूर्व आधा दर्जन से अधिक डकैतों ने डालनवाला के पॉश इलाके में एक परिवार पर हमला कर उन्हें बंधक बनाने के बाद लाखों की नकदी व जेवरात लूट लिये थे। इस सनसनीखेज डकैती से पुलिस मुख्यालय तक हिल गया था और वारदात के खुलासे के लिए खुद एडीजी कानून व्यवस्था राम ंिसंह मीणा ने राजधानी के पुलिस अफसरों के साथ गढ़वाल रेंज के डीआईजी के साथ एक बैठक भी ली थी।

 

उन्होंने पुलिस अफसरों को वारदात का खुलासा करने के लिए एक सन्ताह का समय दिया था। डकैती की वारदात खोलने का अल्टीमेटम खत्म होने के बावजूद भी अभी तक वारदात में शामिल डकैतों का कोई सुराग नहीं लग पाया है तथा यह भी नहीं पता चला कि डकैत किस दिशा में भागे थे। पुलिस टीमों को पहले इस वारदात में बिजनौर के गैंग के शामिल होने की आशंका थी लेकिन उसके सपने उस समय ध्वस्त हो गये थे जब बिजनौर का एक कुख्यात उसकी पकड़ में आया तो उसने खुद वारदात में होने की बात कही लेकिन पुलिस ने जब गहरी छानबीन की तो पता चला कि वह डर के कारण डकैती में होना अपना हाथ कबूल रहा था।

 

डकैती की वारदात को अंजाम देने वाले डकैतों ने लूटे गये दोनो मोबाइल बंद किये हुए हैं जिससे पुलिस के सामने एक बड़ा संकट खडा हुआ है कि वह वारदात में शामिल डकैतों को वह कहां खोजे? डकैतों का कोई सुराग न लगने पर अब पुलिस टीमों ने कुछ संदिग्ध नम्बरों को खंगालना शुरू कर दिया है और उसके आधार पर ही कुछ लोगों से पूछताछ करने का सिलसिला शुरू हो रखा है तथा कुछ सीसीटीवी फुटेज को खंगाल कर भी संदिग्धों की तलाश की जा रही है लेकिन मौजूदा समय तक डकैतों के बारे मे ंकोई जानकारी पुलिस टीमों को नहीं मिल पा रही है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •