udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news प्रदेश में हरेला पर्व को सरकारी तौर पर आयोजित किये जाने का अनुरोध » Hindi News, Latest Hindi news, Online hindi news, Hindi Paper, Jagran News, Uttarakhand online,Hindi News Paper, Live Hindi News in Hindi, न्यूज़ इन हिन्दी हिंदी खबर, Latest News in Hindi, हिंदी समाचार, ताजा खबर, न्यूज़ इन हिन्दी, News Portal, Hindi Samachar,उत्तराखंड ताजा समाचार, देहरादून ताजा खबर

प्रदेश में हरेला पर्व को सरकारी तौर पर आयोजित किये जाने का अनुरोध

Spread the love
देहरादून : मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास में धाद संस्था के प्रतिनिधियों ने भेंट की। उन्होंने मुख्यमंत्री से प्रदेश में हरेला पर्व को सरकारी तौर पर आयोजित किये जाने का अनुरोध किया।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हरेला पर्व प्रकृति से जुड़ा पर्व है। उत्तराखण्ड के लोग स्वाभाविक रूप से प्रकृति प्रेमी रहे हैं। हरेला के प्रति राज्य वासियों का स्वाभाविक लगाव है। उन्होंने कहा कि हरेला पर्व के दौरान ही इस वर्ष रिस्पना एवं कोसी नदी के पुनर्जीवीकरण के लिये रिस्पना क्षेत्र में 2.50 लाख तथा कोसी क्षेत्र में 1.67 लाख पौधों का रोपण किया गया।
मुख्यमंत्री ने प्रदेश की लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिये धाद संस्था के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश में सामाजिक सरोकारों को बढ़ावा देने वाली संस्थाओं का स्वागत है। उन्होंने कहा कि प्रकृति को महत्व देने की भी हमारी परम्परा रही है। प्रकृति के विभिन्न रूपों की हम पूजा करते है।
हमारे लोकगीत तथा पर्व भी प्रकृति प्रेम एवं पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हैं। हमें प्रकृति संरक्षण, प्रेम की अपनी संस्कृति तथा उत्सवों को मनाये जाने की परम्परा को बनाए रखना होगा। इस अवसर पर संस्था के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को हरेला का प्रतीक पौध भी भेंट किया।
इस अवसर पर धाद संस्था के संरक्षक श्री लोकेश नवानी, अध्यक्ष श्री हर्ष मणी व्यास सहित श्री तन्मय ममगाई, श्री डी.सी.नौटियाल, श्री धर्म सिंह राणा, श्री साकेत रावत आदि उपस्थित थे।