udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा हुई और भी मजबूत!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा हुई और भी मजबूत!

Spread the love

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा अब और भी कड़ी कर दी है। सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री द्वारा सार्वजनिक बैठकों में किसी भी स्टेज, तंबू, मंच या अन्य किसी अस्थाई स्ट्रक्चर का उपयोग करने से पहले उसकी जांच की जाएगी।

 
सरकार के सूत्रों के अनुसार इस जांच के बाद फायर डिमार्टमेंट द्वारा हरी झंडी मिलने के बाद ही उन्हें इस्तेमाल में लाया जाएगा। इसके लिए सरकार ने ब्लू बुक में संशोधन किया है। अभी तक अस्थाई स्ट्रक्चर की जांच के लिए प्रोटोकॉल नहीं था। ऐसा इसलिए हैं क्योंकि हाल की घटना में रैलियों या मीटिंग में मंचों की ढहने की घटनाओं में बड़े पैमाने पर बढ़ोतरी देखने को मिली है।

 
ब्लू बुक में संशोधन
प्रधानमंत्री की सुरक्षा (2003 एडिशन) के लिए ब्लू बुक के अध्याय 7 के भाग एक में सब-पैरा 93 डाला गया है। इसमें संशोधन कहता है,‘प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की जानकारी मिलने के बाद जिला मजिस्ट्रेट या अन्य किसी सक्षम प्राधिकारी द्वारा उस क्षेत्र का निरीक्षण करना होगा, जहां प्रधानमंत्री कार्यक्रम में आने वाले हैं।

 

इसके लिए सीपीडब्ल्यूडी, पीडब्ल्यूडी या अन्य इजीनियरिंग विभाग द्वारा अस्थाई स्ट्रक्चर का निरीक्षण करना होगा। जैसे तंबू, मच, ओवरहैंगिंग व्यवस्था स्ट्रक्चर, अन्य इलेक्ट्रोनिक उपकरण आदि की गहन जांच करनी होगी।’ वहीं, दिल्ली में गृह मंत्रालय द्वारा सभी मुख्य सचिवों और हर राज्य के पुलिस डीजीपी को निर्देश दिया गया है कि डीसीपी (पीएम सुरक्षा) ये सुनिश्चित करेंगे कि सीपीडब्ल्यूडी, पीडब्ल्यूडी द्वारा दिल्ली में समय से प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी जाए। यहां भी कार्यक्रम से पहले फायर डिपार्टमेंट द्वारा जारी किया पत्र भी अनिवार्य होगा।