udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में भी गुणवत्तायुक्त चिकित्सा सेवाएं मिलेंगी

राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में भी गुणवत्तायुक्त चिकित्सा सेवाएं मिलेंगी

Spread the love
देहरादून: राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में भी गुणवत्तायुक्त चिकित्सा सेवाएं मिलेंगी। इसके लिये राज्य सरकार ने खाका तैयार कर लिया है। उत्तराखंड हेल्थ सिस्टम डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के जरिए यह कार्य किया जाएगा। विश्व बैंक की इस परियोजना के लिए 120 करोड़ रुपये मंजूर हुए हैं। मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को सचिवालय में प्रोजेक्ट गवर्निंग बॉडी की बैठक हुई।
मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि ऐसी कारगर व्यवस्था की जाय कि मरीजों को इलाज के लिए दूर न जाना पड़े। खासतौर पर सुदूर पर्वतीय क्षेत्रों में जिला अस्पतालों में जांच और इलाज की सभी सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाय। परियोजना के लगातार मॉनिटरिंग और मूल्यांकन की भी ज़रूरत है।
सचिव चिकित्सा श्री नितेश कुमार झा ने बताया कि देश में पहली तरह की यह परियोजना लागू की जा रही है। चिकित्सा के क्षेत्र में यह गेम चेंजर साबित होगा। अल्मोड़ा हॉस्पिटल को ई हॉस्पिटल बनाने के बाद अब सभी अस्पतालों को ऑनलाइन किया जा रहा है। जल्द ही सरकारी अस्पतालों में ई पर्ची की व्यवस्था लागू की जाएगी। पूरे प्रदेश का ई हेल्थ रिकॉर्ड बनाने के लिए सर्वे किया किया जा रहा है।
उत्तराखंड हेल्थ सिस्टम डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के बारे में सचिव चिकित्सा ने बताया कि व्यवस्था में सुधार के लिए क्लस्टर मोड में कार्य शुरू किया गया है। पहले क्लस्टर के रूप में टिहरी जनपद का चयन किया गया है। परियोजना के तहत निजी क्षेत्र के सहयोग से नई पहल को लागू किया जाएगा। इसमें हेल्थ केयर की एकीकृत सेवाएं और हेल्थ केयर वित्त पोषण में नई पहल शामिल है। इसके साथ ही चिकित्सा व्यवस्था में सुधार के लिए भी महत्वपूर्ण कार्य किए जाएंगे।
उन्होंने बताया कि निजी क्षेत्र का सहयोग परफॉरमेंस के आधार पर लिया जाएगा। अस्पतालों में मरीजों की संख्या देखी जाएगी। नेशनल एक्रीडिशन बोर्ड फ़ॉर हॉस्पिटल के मानकों के अनुरूप मूल्यांकन किया जाएगा। मरीजों की संतुष्टि भी परखी जाएगी।आपदा की स्थिति में अस्पताल की तैयारी देखी जाएगी। परियोजना को आयुष्मान भारत से भी जोड़ा जाएगा।
बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, अपर सचिव श्री रंजीत सिन्हा, परियोजना निदेशक श्री युगल किशोर पंत सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
अगले दो अक्टूबर से महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पूरे प्रदेश में मनाई जाएगी। इस सिलसिले में मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह ने बुधवार को सचिवालय में बैठक की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी संबंधित विभाग कार्यक्रमों का कैलेंडर बनाकर संस्कृति विभाग को प्रस्तुत करें।
सचिव संस्कृति श्री दिलीप जावलकर ने बताया कि अल्मोड़ा स्थित अनासक्ति आश्रम में महात्मा गांधी ने प्रवास किया था। इसलिए सूचना विभाग द्वारा नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रस्तुत की जाने वाली झांकी अनासक्ति आश्रम पर आधारित होगी। इसके अलावा जन सहभागिता से नशा मुक्ति अभियान चलाया जाएग
गांधी युवा महोत्सव, स्वच्छ उत्तराखंड अभियान, पद यात्रा और अन्य विभिन्न कार्यक्रम सालभर चलाये जाएंगे। महात्मा गांधी की विचारधारा पर आधारित कार्यक्रम की रूपरेखा तय की जा रही है।बैठक में प्रमुख सचिव गृह श्री आनंद बर्धन, सचिव वन श्री अरविंद सिंह ह्यांकी, एडीजी श्री अशोक कुमार, अपर सचिव श्री चंद्रेश कुमार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।