udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news राष्ट्रीय जीवन की मुख्य धारा में जुड़कर अपने दायित्वों का निर्वहन करें: डोभाल

राष्ट्रीय जीवन की मुख्य धारा में जुड़कर अपने दायित्वों का निर्वहन करें: डोभाल

Spread the love

जिला पंचायत सभागर में युवा सम्मेलन एवं युवा कृति प्रदर्शनी का आयोजन

रुद्रप्रयाग। नेहरू युवा केन्द्र की ओर से जिला पंचायत सभागर में युवा सम्मेलन एवं युवा कृति प्रदर्शनी का आयोजन किया गया, जिसमें देश की एकता एवं अखण्डता के लिए सतत् संकल्प रखने की शपथ ली गई। सम्मेलन में रुद्रप्रयाग, अगस्तमुनी और जखोली विकासखण्ड के सौ से अधिक युवक-युवतियों ने भाग लिया।

 

इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में एसएसबी के पूर्व महानिरीक्षक केशव डोभाल ने देश के समक्ष चुनौतियों से निपटने में युवाशक्ति का आह्वान किया कि वे ‘‘संकल्प से सिद्धि तक’’ राष्ट्रीय जीवन की मुख्य धारा में जुड़कर अपने दायित्वों का निर्वहन करें। उन्होंने सीमा पर एसएसबी, ग्रामीण जनता और नेहरू युवा केन्द्र के युवा संगठनों के साथ किये गये कार्यों का स्मरण करते हुए कहा कि इन साझां प्रयासों से सीमावर्ती आबाद रहे हैं।

 

वर्तमान में सीमा क्षेत्रों से बढ़ते पलायन को देश की एकता और अखण्डता के साथ क्षेत्रीय अर्थव्यवस्था के टूटने से उत्पन्न खतरों पर चिन्ता प्रकट की। सीमा सुरक्षा बल और नेहरू युवा केन्द्र संगठन के साथ पूर्व में राष्ट्रीय स्तर पर किए गये कार्यक्रमों को सांझा करते हुए उन्होंने कहा कि सामाजिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता की दिशा में युवक-युवतियों ने बेहतर कार्य किया है। कार्यक्रम के संयोजक डॉ योगेश धस्माना ने प्रधानमंत्री के फ्लैगशिपक कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए बताया कि युवा संसद कार्यक्रम के माध्यम से समाज के युवा पीढ़ी को दायित्व बोध कराते हुए नये सामाजिक, राजनीतिक नेतृत्व के लिए तैयार किया जा रहा है।

 

उन्होंने बताया कि उनका संगठन बदली हुई परिस्थितियों में युवाओं के बीच डिजिटलीकरण, पैपर-लैश बैंकिंग प्रणाली के महत्व को प्रचारित कर लोक विज्ञान को आधुनिक विज्ञान से जोड़कर खेती एवं उद्यान को स्वरोजगार का महत्वपूर्ण साधन बता रहा है। इस अवसर पर कलश संस्था के संयोजक एवं साहित्यकार ओमप्रकाश सेमवाल ने युवा प्रतिभाओं को अपनी साहित्यिक गतिविधियों के माध्यम से समाज में सतत् रूप से रचना धर्मिता के साथ स्वालम्बन के लिए प्रेरित करने के मूल मंत्र दिए कार्यक्रम में रंगकर्मी योगम्बर पोली ने बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं पर केन्द्रित चेतना गीत की प्रतियोगिता की प्रस्तुतियों के माध्यम से लिंग भेद के बढ़ते अन्तर से समाज को आग्रह किया।

 

कार्यक्रम में कवि जगदम्बा प्रसाद चमोला ने पलायन और बेटियों की सुरक्षा के सवाल पर मर्मस्पर्शी गीतों के माध्यम से युवाओं को सम्बोधित किया। सम्मेलन में अनूप कुमार, अनूप सेमवाल, श्रीमती गीता बुधाणी ने भी अपनी स्वरचित कविताओं का पाठ किया। कार्यक्रम में गारैक्षा आन्दोलन के प्रेरक सुरेन्द्र बिष्ट, नेहरू युवा केन्द्र की लेखाकार श्रीमती अंजना बिष्ट और रजनी सक्सेना किरण कपरवाण ने भी युवाओं को संबोधित किया। कार्यक्रम में रवेन्द्र, आरती नेगी, भारती, आलोक, गौरव, गिरीश, कृष्णा, कुलदीप आदि उपस्थित थे।