udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news रेड अलर्ट: मूसलाधार बारिश, 45 की मौत, 17,974 लोग राहत शिविरों में

रेड अलर्ट: मूसलाधार बारिश, 45 की मौत, 17,974 लोग राहत शिविरों में

Spread the love

कोच्चि : रेड अलर्ट: मूसलाधार बारिश, 45 की मौत, 17,974 लोग राहत शिविरों में .केरल में भारी बारिश का कहर जारी है और पेरियार नदी में बांध के गेट खोले जाने के बाद अब कोच्चि हवाई अड्डे में 18 अगस्त दोपहर 2 बजे तक के लिए उड़ानें रद्द कर दी गई हैं।

उधर, मुन्नार में एक इमारत ढहने से एक व्यक्ति की जान चली गई है जबकि 6 को बचा लिया गया है। इसी के साथ पिछले एक हफ्ते में राज्य में बारिश से मरने वालों की संख्या 45 पहुंच गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से स्वतंत्रता दिवस का संबोधन देते हुए बाढ़ में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों से संवेदना व्यक्त की।

मौसम विभाग ने वायनाड, कोझिकोड, कन्नूर, कासरगोज, मलप्पुरम, पलक्कज, इडुक्की और एर्नाकुलम में गुरुवार तक के लिए रेड अलर्ट जारी कर दिया है। कोच्चि हवाई अड्डे में आज भी भारी बारिश के कारण ऑपरेशन्स में दिक्कत आने पर हवाई अड्डे को बंद करने का फैसला किया गया।

पहले बुधवार दोपहर तक के लिए इसे बंद किया गया था लेकिन स्थिति में सुधार की संभावना न देखते हुए 18 अगस्त तक यहां उड़ानें रद्द रहेंगी। इसके चलते कई राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय उड़ानें प्रभावित हुई हैं। अतिरिक्त पानी छोड़े जाने के लिए इडुक्की जलाशय के इडमालयर और चेरूथोनी बांधों के गेट खोले जाने के बाद हवाईअड्डे पर परिचालन बंद करने का निर्णय लिया गया।

दरअसल, यह पेरियार नदी के तट पर बसा हुआ है। हवाई अड्डे के एक प्रवक्ता ने बताया कि अंदर और आसपास बाढ़ की वजह से बढ़ते जलस्तर के कारण परिचालन बंद रखा गया है। कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (सीआईएएल) ने एहतियात के तौर पर बुधवार सुबह चार बजे से 18 अगस्त दोपहर 2 बजे तक हवाईअड्डे पर विमानों की आवाजाही रोकने का निर्णय लिया।

तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, अलप्पुझा, पठनमित्ता, कोट्टायम, इडुक्की, एर्नाकुलम, थ्रिसूर और कोझिकोड में 60 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही हैं। इडुक्की में मुल्लापेरियर बांध में पानी का स्तर बढ़ने से इलाके में समस्या गंभीर होने लगी है। पेरियार नदी के पास से करीब 4000 परिवारों को राहत शिविरों में ले जाया जा चुका है। उधर, एर्नाकुलम में 17,974 लोगों को 117 राहत शिविरों में ले जाया गया।

उधर, मुन्नार में पोस्ट ऑफिस के नजदीक एक इमारत भारी बारिश के बीच गिर गई। हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि 6 लोगों को बचा लिया गया। केरल-कर्नाटक सीमा के पास माथुंगा में NH-766 में ट्रैफिक जाम हो गया है। बाढ़ प्रभावित एर्नाकुलम में 40 राहत शिविर खोले गए हैं जहां 395 परिवारों के करीब 1180 लोग हैं।

कायम देशभक्ति की मिसाल
इस बीच राजधानी तिरुवनंतपुरम के कन्नाम्मूला से देशभक्ति की मिसाल कायम करती तस्वीर सामने आई है। यहां के लोगों ने बाढ़ के बीच पानी में खड़े होकर स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा झंडा लहराया। तस्वीर से बाढ़ की स्थिति का पता चलता है क्योंकि ये लोग कमर तक पानी में डूबे हैं लेकिन इससे उनके जज्बे पर कोई फर्क नहीं पड़ा। ऐसी ही एक तस्वीर पिछले साल असम के धुबरी जिले से आई थी जहां बाढ़ के बीच एक स्कूल में तिरंगा फहराया गया था।