udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news सागर में उठ रहीं ऊंची लहरें, लोगों के घरों में घुसा पानी

सागर में उठ रहीं ऊंची लहरें, लोगों के घरों में घुसा पानी

Spread the love

कन्याकुमारी। तमिलनाडु के प्रमुख पर्यटक केंद्र कन्याकुमारी में इन दिनों सागर में ऊंची लहरें उठने से आस-पास के इलाकों में पानी घुसने लगा है। मिदलाम में समुद्र किनारे पर बंधी एक नाव विशालकाय लहरों में बहकर लापता हो गई। ये लहरें 8 फीट से साढ़े बारह फीट तक ऊंची हैं। इस वजह से आस-पास के इलाकों में काफी नुकसान की खबरें हैं। यहां तक कि लोगों के घरों में पानी घुस गया।

 

समुद्र में ऊंची लहरें उठने के बारे में पहले ही अलर्ट जारी कर दिया गया था। इसी तरह अलीकल में किनारे से बंधी एक नाव इन लहरों के चलते बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। जिला प्रशासन ने खतरे को देखते हुए समुद्र तट के किनारे बसे 100 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। इनमें अलिकल से 36 लोग, पिल्लईथूपु से 30 और कोल्लमकोड से 34 लोगों को सुरक्षित स्थानों के मैरिज हॉल में रखा गया है। उनके खाने-पीने से लेकर बाकी इंतजाम किए जा रहे हैं।

 

अधिकारियों ने बताया कि समुद्र में पानी वापस जाने और इलाके के सूख जाने तक ये लोग यहीं रहेंगे। मदईकडु, पुडुर, कुरुमपनई, कोट्टिपडु नीरोदय, वल्लाविलई, इरयूमंथुरई, थुथूर और पूथुरई में समुद्र किनारे बसे गांवों में इन ऊंची लहरों से काफी नुकसान हुआ है। कई गांवों में इन लहरों के चलते सडक़ें तक गायब हो गई हैं।

 

समुद्र में जाने पर लगी रोक
जिले के लोकप्रिय टूरिस्ट स्पॉट्स पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। इसी के साथ जगह-जगह किनारों पर रस्सी बांधी गई है ताकि पर्यटकों को समुद्र में जाने से रोका जा सके। जिला कलेक्टर प्रशांत एम वडनेरे ने प्रभावित इलाकों का दौरा किया और लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए व्यवस्था के इंतजाम की जानकारी ली।

 

रविवार को यहां विवेकानंद रॉक और थिरुवल्लुवर मूर्ति तक बोटिंग को भी बैन कर दिया गया। इस वजह से निराश पर्यटक वापस अपने शहरों को जाने लगे। पिछले दो दिन में यहां पर्यटकों की संख्या में गिरावट देखने को मिली। तूतीकोरिन जिले के आस-पास के इलाके और तिरुचेंदुर में सागर की लहरें शांत हैं जबकि रामेश्वरम और कन्याकुमारी जिलों में लहरें उफान पर हैं। मंदिर के श्रद्धालुओं और पर्यटकों को बंगाल की खाड़ी के पास जाने की इजाजत नहीं है।