udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news सास के इशारों का गुलाम है सबसे बड़ा चेन स्नैचर,पुलिस ने किया जल्द गिरफ्तारी का दावा

सास के इशारों का गुलाम है सबसे बड़ा चेन स्नैचर,पुलिस ने किया जल्द गिरफ्तारी का दावा

Spread the love

मुंबई। कई भारतीय परिवारों में सास का सत्तारूढ़ होना आम बात है, और यह कोई अपवाद भी नहीं है। देश के टॉप चेन स्नैचर नासिर खान उर्फ समीर अली के अपराधा का चि_ा खोलने से पता चला कि उसकी सास जिसे सभी मम्मा के नाम से बुलाते हैं, ही पूरा ऑपरेशन कंट्रोल करती है। 36 साल का खान ठाणे के अंबावली इलाके का रहने वाला है।

 

उसे कुछ दिन पहले दिल्ली में गिरफ्तार किया गया और फिर ठाणे लाया गया। नासिर अपराधियों के एक ऐसे नेटवर्क का हिस्सा है, जो पूरे देश में तरह-तरह से महिलाओं को अपना शिकार बनाकर उनकी जूलरी पर हाथ साफ कर लेता है। जांच में पता चला कि उसकी सास पूरे देश में चेन स्नैचिंग का नेटवर्क चलाती है। ठाणे की एंटी चेन स्नैचिंग यूनिट के सीनियर इंस्पेक्टर रवींद्र दोईफोडे ने बताया, खान की सास इस मामले में मुख्य आरोपी है, हम उसे भी जल्द ही गिरफ्तार कर लेंगे।

 
वह महिला सिर्फ अपराध के इस नेटवर्क को ही नहीं चलती बल्कि अपने परिवार को भी पूरी तरह कंट्रोल में रखती है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि महिला ने अपनी बेटी की शादी खान से इसलिए की क्योंकि उसे लगता था कि वह उसका नेटवर्क चला सकता है। अब नासिर गिरफ्तार हो गया है तो वह अपनी बेटी के लिए कोई दूसरा पति ढूंढ लेगी। नासिर उस महिला की बेटी का तीसरा पति है। उसके पहले दो पति फिलहाल जेल में बंद हैं।

 
पुलिस ने बताया कि खान का दिल्ली के निज़ामुद्दीन इलाके में एक बंगला है, टिटवाला में दो फ्लैट और 6 एकड़ जमीन है और ऐंबी वैली के पास भी प्रॉपर्टी है। नासिर के पास कई महंगी गाडिय़ां और 7 आईफोन हैं। उसने पूछताछ में बताया था कि उसने कभी अपने घर में खाना नहीं बनाया है। खाना रेस्तरां से ही आता है। खान का कहना है कि ये सभी प्रॉपर्टी उसकी सास के नाम पर है।

 

ठाणे क्राइम ब्रांच के एक ऑफिसर ने बताया कि खान ड्रग का लती है और उसकी जरूरतों को पूरा करने के लिए उसकी सास उसे रोजाना 2000 रुपये देती है। वह रोजाना देश के कई राज्यों के टिकट बुक करती है, जहां से खान माल लेकर आता है। इसके बाद वह वापस दिल्ली जाता है और सोना बेच देता है। इससे जो भी पैसा मिलता है, उसे वह मम्मा को देता है और मम्मा नासिर को ड्रग्स के लिए 2000 रुपये दे देती है।

 
नासिर को पहली बार 2014 में ठाणे पुलिस ने गिरफ्तार किया था, लेकिन उसके बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया। इसके बाद नासिर दिल्ली में रहने लगा। वहां से वह अपना गैंग चलाता था, जिसमें ज्यादातर सदस्य ईरानी थे। देश के कई शहरों में उसका चेन स्नैचर्स का गैंग है। गैंग के सभी लोग रेलवे ट्रैक के करीब रहते हैं, और बताए गए इलाके में अपना ऑपरेशन चलाते हैं। ये सभी हफ्ते में एक बार खान से मिलते हैं और लूट के माल के साथ-साथ अपनी रिपोर्ट भी सौंपते हैं।

 
पुलिस सूत्रों ने बताया कि उसका नेटवर्क बेंगलुरु, कोलकाता, दिल्ली, हैदराबाद और चेन्नै में उसका तगड़ा नेटवर्क है। इसके अलावा महाराष्ट्र में मुंबई के अलावा, ठाणे, कल्याण और नवी मुंबई में उसकी अच्छी पकड़ है। अभी तक अकेले ठाणे में नासिर और उसके गैंग के खिलाफ 40 से ज्यादा केस दर्ज हैं।

 

पुलिस ने बताया खान ने दुबई से आने वाले लोगों को अपना निशाना बनाया और उनसे डायमंड चुरा लिए।
ठाणे क्राइम ब्रांच के सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर नितिन ठाकरे ने बताया कि खान को मकोका (महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट) के तहत गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि इस नेटवर्क का भंडा फोड़ करने के लिए वह अन्य राज्यों की पुलिस के भी सम्पर्क में थे।