udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news शहीदों की याद में फलदार वृक्षों का किया रोपण

शहीदों की याद में फलदार वृक्षों का किया रोपण

Spread the love

रूद्रप्रयागःशौय दिवस (कारगिल दिवस) के अवसर पर जिला कार्यालय में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल द्वारा प्रातः 10ः00 बजे झण्डारोहण किया गया। ध्वाजारहोण के पश्चात जिलाधिकारी ने उपस्थित अधिकारी एवं कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान सैनिको द्वारा कारगिल में हमारी सीमा पर अतिक्रमण कर दिया था। हमारे वीर सैनिको ने पाकिस्तान के सैनिकों खदेड़ कर 26 जुलाई 1999 को विजय प्राप्त किया।

जिलाधिकारी ने अपने सम्बोधन में कहा कि हमारे भारतीय सेना के जवानो ने अपनी प्राणों की बाजी लगाकर देश के प्रति अपने प्राण न्योछावर कर दिए। हमे भी इन वीर शहीदो से सीख लेने होगी कि हमें भी अपने कर्तव्यो के प्रति निष्ठावान होना पडे़गा। कहा कि यही हमारी वीर सपूतों के प्रति सच्ची श्रद्धाजंलि होगी। इस अवसर अपर जिलाधिकारी गिरीश गुणवन्त, वरिष्ठ कोषाधिकारी श्रीमती शशि सिंह, कोषाधिकारी गिरीश चन्द सहित अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे। इससे पूर्व शौर्य दिवस के अवसर पर  प्रातः आठ बजे राजकीय इन्टर कालेज और राजकीय बालिका इन्टर कालेज के छात्र-छात्राओं द्वारा नगर में प्रभात फेरी निकाली गयी।

जनपद में शौर्य दिवस बडे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर राजकीय इन्टर कालेज  के प्रांगण में आयोजित मुख्य समारोह में विधायक रूद्रप्रयाग भरत सिंह चैधरी एवं जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कारगिल शहीदों को श्रद्धांजलि एवं श्रद्धासुमन अर्पित किये गये। वहीं स्कूली छात्राओं ने देश भक्ति से ओत-प्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर कारगिल शहीदों के परिजनों को शाॅल ओढाकर व मिक्सर ग्राइंडर देकर सम्मानित किया तथा शहीदों की याद में उनके परिजनों एवं अधिकारियों ने फलदार वृक्षों का भी रोपण किया गया।

समारोह के मुख्य अतिथि विधायक भरत सिंह चैधरी ने कहा कि गढवाल राइफल के सैनिको ने कारगिल युद्व में अदम्य साहस का परिचय देकर देश की सुरक्षा की। इसके साथ ही आज भी भारतीय सेना सीमाओं में अपनी सेवा देकर देश की रक्षा कर रही है। हमारे सैनिकों द्वारा प्रत्येक समय निस्वार्थ भाव से देश की सुरक्षा का कार्य किया जाता है। यही बलिदान, निष्काम कर्म भाव सर्वोच्च देश भक्ति का प्रतीक है। उनका त्याग एवं बलिदान हमेशा पे्रेरणा देता रहेगा कि हम अपने देश-प्रदेश एवं समाज के लिये कुछ करें और भरोसा दिलाया कि हमारी सीमाएं सुरक्षित है और उनका बलिदान भावी पीढ़ी के लिए प्ररेणा का कार्य करेगा।

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने शहीदों को नमन एवं श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि आज ही के दिन भारतीय सेना ने दुश्मनों के विरूद्ध ऐतिहासिक जीत हासिल की थी। उन्होने कहा सैनिकों द्वारा चलाये गये विजय आॅप्रेशन अभियान के लिए हम अपने सैनिको के द्वारा किये गये बलिदान व त्याग को याद करते है, जिन्होने विषम परिस्थतियों में कश्मीर के उच्च हिमालयी चोटियों से घुसपैठियों को खदेड भगाया। उन्होने कहा कि भारतीय सेना के जवानों ने अपने अदम्य साहस एवं बलिदान का परिचय देकर देश की रक्षा की। कहा कि जनपद के तीन रणवांकुरों ने कारगिल युद्ध में अपनी जान पर खेलते हुए देश की रक्षा की और जनपद का नाम रोशन किया, हमें उन शहीदों के परिवारों पर नाज है जिन्होंने देश को ऐसे सपूत दिये।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए सहायक जिला सैनिक कल्याण एवं पुर्नवास अधिकारी रवीन्द्र सिंह रावत ने कहा कि 26 जुलाई 1999 के दिन कारगिल युद्ध की विजय पर शहीदों के सम्मान में शौर्य दिवस मनाया जाता हैं। कहा कि हमारे वीर सैनिकों के विषम भौगोलिक परिस्थितियों मंे कश्मीर की वर्फीली पहाड़ों की चोटियों में अपने प्राण को न्यौछावर कर याद दिलाया है कि भारत की सीमायें बिलकुल सुरक्षित हैं, और इसके लिये भले ही उन्हें अपने प्राणों की आहुति क्यों न देनी पडे, पर उनका बलिदान व्यर्थ न जाय।

उन्होंने कहा कि 26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय वीर सैनिकों ने कारगिल तथा द्रास सैक्टर की बहुत अधिक ऊॅचाई वाली पहाडियों को पाकिस्तानी घुसपैठियों से मुक्त कराया था। इस युद्ध में गढ़वाल राइफल्स की तीन यूनिटों 10वीं, 17वीं एवं 18वीं गढ़वाल ने भाग लिया था। जोकि हम सभी के लिये बडे गर्व की बात है। इस युद्ध को सेना की भाषा में आपरेशन विजय के नाम से जाना जाता है। उन्होंने बताया कि इस युद्ध में 524 बीर सैनिकों ने अपना जीवन मातृ भूमि की रक्षा हेतु बलिदान दिया तथा 1363 सैनिक घायल हुए। अपना जीवन बलिदान देने वालों में 75 वीर सैनिक उत्तराखण्ड के थे, जिनमें से 03 शहीद सैनिक जनपद रूद्रप्रयाग के भी थे।

कार्यक्रम में कारगिल शहीद रा0मैन भगवान सिंह की पत्नी सुन्दरी देवी ग्राम क्यंूजा, शहीद नायक गोविन्द सिंह की पत्नी उमा देवी उपस्थित थी किन्तु स्वास्थ्य खराब होने के कारण नायक सुनील दत्त के परिजन उपस्थित नहीं हो पाए। शौर्य दिवस के उपलक्ष्य में 24 जुलाई को आयोजित निबन्ध एवं चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को स्मृति चिन्ह भेंट व कार्यक्रम में देशभक्ति की प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय व तृतीय व सांत्वना स्थान प्राप्त करने वाले बच्चों को  सम्मानित किया। वहीं कार्यक्रम के बाद आर्मी कैम्पस में शहीदों की याद में फलदार वृक्षों का भी रोपण किया गया।

इस अवसर पर जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कर्नल आर0एल0 थापा, उप जिलाधिकारी सदर देवानन्द, प्राचार्य जीआईसी दिनेश कुमार वाजपेयी, जिला शिक्षााधिकारी माध्यमिक एल एस दानू, सैनिकों सहित जीआईसी/जीजीआईसी के छात्र-छात्राएं, शिक्षक एवं जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।