udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news शैक्षिक क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा संस्कृत महाविद्यालय: जमलोकी

शैक्षिक क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा संस्कृत महाविद्यालय: जमलोकी

Spread the love

संस्कृत महाविद्यालय शोणितपुर के जीर्णोद्धार का उद्घाटन ,शिव ताण्डव की प्रस्तुति ने मोहा मन

रुद्रप्रयाग। आदर्श संस्कृत महाविद्यालय शोणितपुर का जीर्णोद्धार का उद्घाटन समारोह रंगारंग कार्यक्रमों के साथ ही संपंन हुआ। इस दौरान देर सांय तक दर्शकों ने कार्यक्रमों का जमकर लुत्फ उठाया।

 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कार्याधिकारी श्री बद्री केदार मंदिर समिति एनपी जमलोकी ने महाविद्यालय का जीर्णोद्धार करने वाली श्री शिरडी सांई पथानुगामी ट्रस्ट की जमकर सराहना की। कहा कि क्षेत्र में संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए यह महाविद्यालय शैक्षिक क्षेत्र में मील का पत्थर साबित हो रहा है।

 

कहा कि क्षेत्र के छात्रों को कर्मकाण्ड, ज्योतिष तथा वेदों की शिक्षा लेने के लिए इस महाविद्यालय का रूख करना चाहिए। कहा कि इससे पूर्व मंदिर समिति द्वारा महाविद्यालय की सुरक्षा दीवार भी निर्मित की गई है।ट्रस्ट के सदस्य नीति चोपड़ा तथा सोनिया पंत ने कहा कि ट्रस्ट का उद्देश्य छात्रोें के शैक्षिक उन्नयन का विकास करना है, इसके लिए सम्पूर्ण देश में विभिन्न समाजोपयोगी कार्यक्रमों का संचालन किया जाता है।

 

महाविद्यालय के प्रधानाचार्य नित्यानन्द पोखरियाल ने संस्कृत भाषा में संबोधित करते हुये सभी अतिथियों तथा जनता का धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र का सौभाग्य है कि इस तरह का महाविद्यालय यहां स्थापित है, जहां पर नियुक्त अध्यापक तन, मन तथा धन से छात्रों के चहंुमुखी विकास के लिए तत्पर हैं।

 

छात्र छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना, स्वागत गान, शिव ताण्डव स्तोत्र सहित गढ़वाली तथा संस्कृत भाषा पर आधारित विभिन्न गीत तथा नाटकों के माध्यम से देर सांय तक दर्शकों का खूब मंनोरंजन किया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों से पूर्व प्रबन्ध समिति द्वारा सभी अतिथियों का माल्यार्पण कर बैच अंलकरण भी किया।

 

इस अवसर पर डॉ राम प्रसाद उपाध्याय, डॉ सुरेश चन्द बहुगुणा, सुरेशानन्द गौड, श्रीनिवास पोस्ती, जिपंस राजुली देवी, क्षेपंस लमगौण्डी सुबोध बगवाडी, क्षेपंस देवली गणेश तिवारी, ग्राम प्रधान श्रीमती दीपा जुगरान, ग्राम प्रधान फहली पसालत प्रमिला देवी, विष्णुकान्त शुक्ला, कुबेर नाथ पोस्ती, शिव प्रसाद सेमवाल, बिपिन सेमवाल, ज्योति मनोहर, पशुपतिनाथ, जयप्रकाश, शंकर बगवाडी, राजेन्द्र, प्रदीप सेमवाल, महेश बगवाडी, जगदीश प्रसाद भट्ट सहित सैकड़ो लोग मौजूद थे।