udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news शीघ्र शुरू किया जाय केदारनाथ में होने वाले कार्य: उत्पल

शीघ्र शुरू किया जाय केदारनाथ में होने वाले कार्य: उत्पल

Spread the love

आगामी यात्रा सीजन से पहले होंगे सभी कार्य,मुख्य सचिव ने लिया केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा

रुद्रप्रयाग। मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने केदारनाथ धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लिया। इसके साथ ही उन्होंने केदारनाथ में होने वाले पुनर्निर्माण कार्यों को शीघ्र शुरू करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने कहा कि केदारनाथ धाम में जो भी पुनर्निर्माण कार्य होने हैं, उनका निर्माण कार्य शीघ्र शुरू किया जाय।

 

निर्माण कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। इस दौरान मुख्य सचिव ने अधिकारियों के साथ मिलकर केदारनाथ से भीमबली तक पैदल मार्ग का निरीक्षण भी किया।शनिवार सुबह मुख्य सचिव उत्पल कुमार केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लेने के लिये केदारनाथ पहुंचे।

 

केदारनाथ मंदिर के साथ ही मुख्य सचिव ने केदारनाथ मंदिर के पीछे बनी सुरक्षा दीवार, घाट आदि का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मुख्य सचिव ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये कि निर्माण कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। सभी कार्य समय पर पूर्ण होने चाहिये।

 

उन्होंने कहा कि केदारनाथ मंदिर के आगे के रास्ते का चौड़ीकरण, मंदाकिनी नदी किनारे सुरक्षा दीवारों का कार्य, केदारनाथ मंदिर के पीछे का सौंदर्यीकरण किया जाना है। जिसका कार्य शीघ्र शुरू किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि जितनी जल्दी कार्य पूरे होंगे, उससे आगामी यात्रा सीजन में केदारनाथ आने वाले तीर्थ यात्रियों को बेहतर सुविधाएं मिलेंगी।

 

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने मुख्य सचिव उत्पल कुमार को केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों के बारे में जानकारी दी। लाधिकारी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा निर्देश दिये गये हैं कि केदारनाथ मंदिर के आगे का जो चबूतरा है, उसे जितना बड़ा हो सके, उसकी चौड़ाई बढ़ाई जाय।

 

लोनिवि को निर्देश दिये गये हैं कि अगले यात्रा सीजन से पहले चबूतरे का निर्माण कार्य पूर्ण किया जाय। साथ ही मंदिर के पीछे का मलबा हटाकर वहां पार्क बनाया जाना है, जिसकी जिम्मेदारी निम को सौंपी गई है। मंदिर के पीछे वाले हिस्से में पार्क बनने से यात्री वहां रूकेंगे और मंदिर की सुंदरता को निहार सकेंगे।

 

उन्होंने कहा कि लोनिवि को मंदिर और संगम तक के रास्ते को चौड़ा करने के निर्देश भी दिये गये हैं, जिससे संगम पर पहुंचते ही यात्रियों को केदारनाथ मंदिर के दर्शन हो सके। निम और सिंचाई विभाग को मंदाकिनी नदी पर सुरक्षा दीवार का निर्माण शीघ्र करने के निर्देश दिये गये हैं।

 

इस दौरान मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने घोड़े-खच्चरों के लिये रामबाड़ा-जंगलचटटी से केदारनाथ अलग रास्ते का सर्वे करने के निर्देश दिये। यदि यहां रास्ता बनाया जाता है तो तीर्थ यात्रियों को सुविधाएं मिलेंगी। पैदल चलने वाले यात्रियों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

 

साथ ही मुख्य सचिव ने रामबाड़ा से केदारनाथ तक पैदल मार्ग का सुधारीकरण करने को कहा, जिसके निर्देश लोनिवि को दिये गये। जिलाधिकारी ने बताया कि केदारनाथ में होने वाले पुनर्निर्माण कार्यों की देख-रेख करने के लिये सभी जगह सीसीटीवी कैमरे लगाये जाएंगे।