udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news स्वास्थ्य क्षेत्र में आयुष्मान भारत योजना मील का पत्थर

स्वास्थ्य क्षेत्र में आयुष्मान भारत योजना मील का पत्थर

Spread the love

देहरादून। संजय ऑर्थोपीडिक़ स्पाइन एवं मैटरनिटी सेन्टर जाखन एवं सेवा सोसाइटी द्वारा विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर अच्छे स्वास्थ्य का महत्व एवं स्वस्थ्य कैसे रहें? जन जागरूकता व्याख्यान एवं नि:शुल्क स्वास्थ्य परामर्श शिविर का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का उद्द्याटन बतौर मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, अति विशिष्ट अतिथि डॉ. अर्चना श्रीवास्तव स्वास्थ्य महानिदेशक द्वारा किया गया।

इस मौके पर कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि जैसा कि हमारे शास्त्रों में लिखा है कि मानव सुख एवं उत्कृष्ट मानव उन्नति के लिए, भोजन, शिक्षा और स्वास्थ्य से ज्यादा शरीर, मन और बु़िद्ध के सामन्जस्य की जरूरत है। डॉ0 अर्चना श्रीवास्तव ने कहा कि अब दून अस्पताल में ओपीडी के लिए ऑनलाइन परामर्श समय की व्यवस्था हो गई है।

 

जल्दी ही प्रदेश के अन्य अस्पतालों में यह सुविधा मुहैया कराई जायेगी। कार्यक्रम के दौरान गिनीज एवं लिम्का बुक रिकार्ड होल्डर डॉ. बी. के. एस. संजय ने कहा कि हाल ही में प्रधानमंत्री द्वारा घोषित आयुष्मान भारत योजना स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक मील का पत्थर साबित होगा, क्योंकि इस योजना से 10 करोड़ भारतीय गरीब परिवार के 50 करोड़ लोग लाभान्वित होंगे और इस योजना की घोषणा का मुख्य उद्देश्य, देश में स्वास्थ्य से सम्बन्धित आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराना है।

 

इस योजना के लागू होने के पश्चात् लाभान्वित व्यक्तियों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधाऐं उपलब्ध कर पाने में पैसों की कमी उनके स्वास्थ्य के आड़ें नहीं आयेगी। जैसा कि आज के युग में एक बड़ी अजीब स्थिति है कि मनुष्य अपना सारा जीवन दिन-रात एक करके जिस संपश्रि को एकत्रित करने में लगता है परंतु उस संपश्रि का उपयोग करने के लिए जिसकी अति आवश्यकता होती है, वह होता है व्यक्ति का स्वास्थ्य। जिसकेे प्रति पूरी वह तरह उदासीनता की भूमिका को निभाता है।

 

डॉ. संजय ने कहा कि आज पूरे विश्व में हर जाति, धर्म और हर वर्ग के लिए भोजन, शिक्षा और स्वास्थ्य की आवश्यकता मानी जा सकती हैं और इन तीनों चीजों का संबंध एक दूसरे से जुड़ा होता है। इतना ही नहीं इन तीनों चीजों को पाने के लिए धन की आवश्यकता होती है। और धन तभी कमाया जा सकता है जब आपका स्वास्थ्य ठीक होगा। क्योंकि जब आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं होगा तो उस दौरान जो धन आपने कमाया भी होगा वह स्वास्थ्य पाने के लिये खर्च हो जायेगा।

 

ऐसे में स्वास्थ्य का पूरी तरह से ठीक होना जरूरी है। डॉ. संजय ने कहा कि मेरे विचार से यदि मनुष्य कुछ बिन्दुओं पर गौर करते हुए उन पर अमल करे तो उससे उसके धन की भी बचत होगी और इसके साथ उसका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। डॉ0 गौरव संजय ने भी स्वास्थ्य के महत्व के बारे में बताया तथा आये हुए मुख्य अतिथि एवं अन्य अतिथियों का आभार जताया। सेवा सोसाइटी के सचिव डॉ. प्रतीक संजय ने कहा कि यह सब यहाँ पर आये हुए सभी व्यक्तियों के सहयोग से ही संभव हुआ है एवं भविष्य में भी हमारी संस्था आपके सहयोग की आकांक्षी रहेगी।

 

कार्यक्रम में हरीश अरोड़ा चेयरमेन साईं गु्रप ऑफ इंस्टीटूशंस, डॉ. डी. पी. उनियाल यूकोस्ट, डॉ. एस.एन. सिंह वरिष्ठ ऑर्थोपीडिक शल्य चिकित्सक डी.डी.यू. (कारोनेशन) अस्पताल और ऑर्थोपीडिक एवं स्पाइन सर्जन डॉ. बी. के. एस. संजय, ऑर्थोपीडिक सर्जन डॉ. गौरव संजय, स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. सुजाता संजय, सेवा सोसाइटी के सचिव प्रतीक संजय एवं योगेश अग्रवाल समाजसेवी आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम में मेडिकल एवं पैरामेडिकल छात्र-छात्राओं एवं रोगियों ने भाग लिया।