udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018 के मानकों को पूरा करने के निर्देश

स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018 के मानकों को पूरा करने के निर्देश

Spread the love

रूद्रप्रयागः  स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अन्तर्गत राज्य एवं जनपदों की स्वच्छता के आंकलन हेतु ‘‘ स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018 (दिनांक 1 अगस्त 2018 से 31 अगस्त 2018 तक) का शुभारम्भ मुख्य बाजार में मा0 विधायक रूद्रप्रयाग भरत सिंह चैधरी द्वारा स्वच्छता रथ को हरी झण्डी दिखा कर तीनो विकास खण्डों के लिए रवाना किया है।

उन्होने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018 की कार्य पद्वति में उक्त घटकों के आधार पर सर्व श्रेष्ठ प्रदर्शन हेतु जनपदों की रैंकिग तैयार की जायेगी। इसके अन्तर्गत सेवा स्तर प्रगति, सार्वजनिक स्थानों का सर्वेक्षण एवं नागरिक प्रतिक्रिया के आधार पर रैंकिग प्रदान की जायेगी, स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण हेतु सर्वेक्षण में रैंकिग हेतु विभिन्न तत्वों का आधार का अनुपात में स्वच्छता से सम्बन्धित मानकों की सेवा प्रगति 35 प्रतिशत, सार्वजनिक स्थानों की स्वच्छता का सीधा आवलोकन 30 प्रतिशत तथा नागरिक प्रतिक्रिया सहित गाँव स्तर पर प्रमुख प्रभाव की प्रतिक्रिया 35 प्रतिशत निर्धारित की गयी है,

कार्य पद्वति में उक्त के अतिरिक्त आई.एम.आई.एस. सूचना के आधार पर सेवा स्तर प्रगति सार्वजनिक स्थलों का सीधा अवलोकन, आंकलन के मानक तथा शौचालयों की उपलब्धता, शौचालयों का प्रयोग, शौचालयों की स्वच्छता, कचडे/कूड़ा करकट की स्थिति तथा जल जमाव की स्थिति और नागरिक प्रतिक्रिया को भी सम्मिलित किया गया है। स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018‘‘ का कार्य जनपद के तीनों विकास खण्डों, न्याय पंचायतों एवं ग्राम पंचायतों में दिनांक 01 अगस्त 2018 से 31 अगस्त 2018 तक प्रभावी रहेगा।

मुख्य विकास अधिकारी एनएस रावत ने स्वजल के साथ अन्य सभी विभागों के साथ समन्वय बनाकर स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018 के मानकों को पूरा करने के निर्देश दिए गए है। पुराने विकास भवन परिसर में मुख्य विकास अधिकारी द्वारा सभी अधिकारियों को कार्यक्रम के सफल सचंालन एवं पूर्ण करने में अपनी भूमिका का निर्वहन करने को कहा।

परियोजना प्रबन्धक एम.एस. नेगी द्वारा अवगत कराया गया कि ‘‘स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018‘‘ स्वच्छता के समग्र मानकों जैसे सार्वजनिक स्थानों का सर्वेक्षण, नागरिक प्रतिक्रिया, स्वच्छता की अवधारणा एवं कार्यक्रम के सुधार हेतु सुझाव तथा स्वच्छ भारत मिशन (ग्रमीण) के एम.आई.एस. में अंकित आंकडे इत्यादि को सम्मिलित करते हुए किया जायेगा।

उक्त आंकलन में श्रेणी प्राप्त करने वाले राज्यों तथा जनपदों को 02 अक्टूबर 2018 को भारत सरकार द्वारा पुरस्कृत किया जायेगा। पर्यावरण विशेषज्ञ प्रताप सिंह मटूड़ा द्वारा ‘‘स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2018 के उद्ेश्य के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि राज्यों एवं जिलों से स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के प्रमुख मानकों के अनुसार किये गये कार्यो के आधार पर राज्यों एवं जिलों में श्री रैंकिग, गहन एवं समग्र सूचना, शिक्षा एवं संचार (आई.ई.सी.) के माध्यम से उनके स्वच्छता स्तर में सुधार किये जाने हेतु ग्रामीण समुदाय को सम्मिलित करना, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के मानकों के आधार पर राज्यों एवं जिलों तथा राज्यों एवं जिलों के अन्दर स्वच्छता के सम्बन्ध में किये गये प्रर्दशन कार्यो की तुलना राष्ट्रीय स्तर पर किया जाना,

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) क्रियान्वयन वाले समस्त जनपदों में नमूना सर्वेक्षण (सैम्पल सर्वे) के माध्यम से चयनित ग्राम पंचायतों के अन्दर मुख्य स्थानों जैसे- स्कूल, आगंनबाडी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, हाट बाजार, धार्मिक स्थल की जमीनी स्वच्छता की प्रगति का आंकलन करना और कार्यक्रम क्रियान्वयन में आवश्यक सुधार के लिए चयनित ग्राम पंचायतों एवं नागरिकों को सम्मिलित करते हुए उनकी प्रतिक्रिया एवं सिफारिशों को सम्मिलित करना है। इस अवसर पर सीवीओ डाॅ रमेष सिंह नितवाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।