udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news त्रिवेंद्र सरकार ने दिया सम्मान, गाय को किया 'राष्ट्रमाता' घोषित !

त्रिवेंद्र सरकार ने दिया सम्मान, गाय को किया ‘राष्ट्रमाता’ घोषित !

Spread the love

 देश का पहला राज्य बना उत्तराखंड,गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित बिल करने का विधानसभा में पारित

देहरादून:  त्रिवेंद्र सरकार ने दिया सम्मान, गाय को किया ‘राष्ट्रमाता’ घोषित ! कहते हैं कि किसी में लाख बुराइयां हो और वह एक ऐसा काम कर दे जो सदियों तक इतिहास के पन्नों में पढ़ा जायगा तो इससे अच्छी बात कोई दूसरी नहीं हो सकती है। प्रदेश की त्रिवेंद्र सरकार को आम जन चाहे कुछ भी कहे, लेकिन सरकार के गौ माता को राष्ट?माता घोषित करने के प्रस्ताव ने इसे स्वर्मिण काल बनाने के साथ इतिहास बना दिया जिसकी आज पूरे देश में आवश्यकता महसूस की जा रही थी। त्रिवेंद्र सरकार द्वारा गौ माता पर यह उपकार कर हर हिंदूस्तानी के दिल में जगह बना दी है।

 

आपको बता दें कि उत्तराखंड  देश का पहला राज्य गया है जिसने गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित बिल करने का विधानसभा में पारित किया। गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने वाला उत्तराखंड देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है। विधानसभा में यह बिल पास हो गया है और अब इसे केंद्र के पास अप्रूवल के लिए बढ़ाया गया है। उत्तराखंड की पशुपालन मंत्री रेखा आर्य ने उत्तराखंड विधानसभा में बिल पेश किया था। उन्होंने कहा, ‘हम सभी (विपक्ष और सत्ता) गाय के महत्व से वाकिफ हैं। न सिर्फ भारत बल्कि दूसरे देशों में इसका सम्मान किया जाता है।’

 

राष्ट्र माता घोषित करने से यदि इनकी पूजा और आराधना सुरू होती है और गोवा, मेघालय जैसे राज्यों में इनकी हत्या बंद कर दी जाएगी, तो बैल को राष्ट्रपिता घोषित कर दिया जाय । उन्होंने आगे कहा, ‘धार्मिक ग्रन्थों में भी, हमें गाय का उल्लेख मिलता है और कहा जाता है कि इसके शरीर 33 करोड़ देवताओं और देवताओं का वास होता है। वह कहती हैं कि अगर गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा मिल जाता है तो इनकी सुरक्षा के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे ताकि गोवध बंद हो सके।’

 

उन्होंने आगे कहा कि इसके अलावा, कई लोगों के लिए यह जानवर कमाई का जरिया भी है और लोग जीविकोपार्जन के लिए इस पर निर्भर हैं। देहरादून के मेयर विनोद चंबोली समेत बीजेपी के कई नेताओं ने प्रस्ताव पर लोगों एकजुटता बढ़ाने के लिए प्रयास किया। उन्होंने कहा, ‘अब समय आ गया है कि गाय की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।’

 

हालांकि उत्तराखंड में विपक्ष की नेता इंदिरा हृदयेश ने कहा, ‘हम सभी गाय का सम्मान करते हैं लेकिन मैं यह समझने में असमर्थ हूं कि बीजेपी गाय को राष्ट्र माता घोषित करके क्या साबित करना चाहती है? प्रदेश के गोशाले बुरी स्थिति में हैं और बूढ़े होने के बाद गायों को लोग छोड़ देते हैं। प्रदेश में पशुचिकित्सकों की भी कमी है।’

 

उन्होंने कहा कि प्रस्ताव लाने के बजाय बीजेपी यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कोई भी बछड़ा मारा न जाए, गायों को उचित भोजन मिले, गोशालों की स्थिति ठीक हो और बुजुर्ग जानवरों के लिए उचित बंदोबस्त कराया जाए। बीजेपी, कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों के विचार सुनने के बाद विधानसभा स्पीकर प्रेम चंद अग्रवाल ने वोटिंग के आधार पर प्रस्ताव पारित किया।