udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news  उद्योगों की मदद के लिए पैकेज देने की तैयारी में सरकार

 उद्योगों की मदद के लिए पैकेज देने की तैयारी में सरकार

Spread the love

नई दिल्ली । उद्योगों की रफ्तार बढ़ाने और रोजगार के अवसरों की संख्या में वृद्धि करने के उद्देश्य से सरकार नीतिगत और वित्तीय प्रोत्साहनों का एक पैकेज तैयार कर रही है।

 

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय इस संबंध में वित्त मंत्रालय के साथ मिलकर काम कर रहा है। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने गुरुवार को कहा कि देश की अर्थव्यवस्था एकदम सही स्थिति में है और आने वाले वर्षों में इसमें तेज विकास की गुंजाइश है। इंडिया इकोनॉमिक समिट में अपने संबोधन में प्रभु ने कहा कि यही वजह है कि सरकार अपनी नीतिगत ढांचे को तेज विकास के अनुकूल बनाने में जुटी है।

 

सभी सेक्टरों का अलग-अलग अध्ययन किया जा रहा है और जहां जैसी आवश्यकता होगी, बदलाव किया जाएगा। संवाददाताओं से बात करते हुए प्रभु ने कहा कि सरकार कई नीतिगत फैसले ले रही है। ‘मैं खुद वित्त मंत्रालय और नीति आयोग समेत कुछ अन्य विभागों के साथ मिलकर उद्योगों के लिए नीतिगत और वित्तीय प्रोत्साहनों पर काम कर रहे हूं।’

 

सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि उद्योग जिस रफ्तार से उत्पादन कर रहे हैं उससे अधिक करें। इससे रोजगार के भी ज्यादा अवसर पैदा होंगे। प्रभु ने कहा कि उद्योग जब अधिक उत्पादन करेंगे तो उसका असर आर्थिक विकास दर पर भी दिखेगा। इससे पहले समिट के अपने संबोधन में वाणिज्य व उद्योग मंत्री ने कहा कि देश में कारोबार करना आसान बनाने के लिए सरकार ढेर सारे कदम उठा रही है।

 

लेकिन उन्होंने माना कि अभी और बहुत कुछ किया जाना बाकी है। हालांकि प्रभु को उम्मीद है कि इन प्रयासों से बेहद आसानी से कारोबार करने वाले देशों में शुमार हो जाएगा। उन्होंने कहा, ‘मेरा काम यह आश्वस्त करना है कि देश में उद्यमिता का विकास हो।’ उन्होंने कहा कि भविष्य में मैन्यूफैक्चरिंग की तस्वीर आज से एकदम अलग होगी।

 

इसलिए सरकार कुछ उभरते हुए उद्योग क्षेत्रों पर काम कर रही है। प्रभु ने कहा कि अधिकतम क्षमता उपयोग को घरेलू खपत और निर्यात में वृद्धि से और बढ़ाया जा सकता है। एप्पल को रियायतों देने पर विचार: औद्योगिक नीति व संवर्धन विभाग (डीआइपीपी) सचिव रमेश अभिषेक ने अपने संबोधन में कहा कि देश में मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए एप्पल की तरफ से मांगी गई छूट के प्रस्ताव पर सरकार विचार कर रही है।

 

आइफोन बनाने वाली कंपनी एप्पल को छोड़ दें तो हैंडसेट बनाने वाली करीब 90 कंपनियां भारत में मैन्यूफैक्चरिंग कर रही हैं। उन्होंने कहा कि मेक इन इंडिया अभियान अब मजबूती पकडऩे लगा है। एप्पल के संबंध में पूछे जाने पर अभिषेक ने कहा कि उन्होंने कुछ रियायतों की मांग की है।