udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news उत्तराखंडः बारिश से मौत का भय, 11 घरों में भू-धसाव !

उत्तराखंडः बारिश से मौत का भय, 11 घरों में भू-धसाव !

Spread the love

देहरादून: उत्तराखंडः बारिश से मौत का भय, 11 घरों में भू-धसाव ! उत्तराखंड के पहाड़ों में भारी बारिश यहां के निवासियों के लिए मौत की बारिश से कम नहीं है। यहां मौत कब और किस रूप में आ जाए बरसाती मौसम में कुछ कहा नहीं जा सकता है।उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश से लोग दहशत में है। चमोली जिले के कुलिंग गांव में ग्यारह घरों में भू धसाव हुआ है।

उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त है। पहाड़ों पर हो रही तेज बारिश से लोग दहशत में हैं। जगह-जगह बंद हो रहे मार्ग लोगों की परेशानियां बढ़ा रहे हैं। बारिश से बदरीनाथ हाइवे लामबगड़ में एकबार फिर से बंद हो गया है। जबकि कुलिंग गांव के 11 घरों में भू-धंसाव हो रहा है, जिसके चलते उन्हें कहीं और शिफ्ट किया जा रहा है।

उत्तराखंड में बारिश से लोगों में दहशत का माहौल है। नदियों के उफान आना और भूस्खलन की घटनाएं लोगों में दहशत का माहौल पैदा कर रही है। चमोली जिले में लगातार हो रही बारिश के चलते बदरीनाथ हार्इवे एकबार फिर से लामबगड़ के पास बंद हो गया है। जिसके चलते यात्री हाइवे के खुलने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि, हेमकुंड यात्रा अभी भी जारी है। वहीं, बारिश से हुए भू-धंसाव की जद में कुलिंग गांव के 11 घर आ गए हैं। जिसके चलते ग्रामीणों को पंचायत घर में शिफ्ट किया जा रहा है।

चम्पावत में नेशनल हार्इवे फिलहाल खुला हुआ है, लेकिन ग्रामीण मार्ग सुखिढांग-डांंडा मिडार सड़क पर मलबा आने से बंद है। इस कच्चे मोटर मार्ग पर बरसात में वाहनों का संचालन प्रतिबंधित है। जेसीबी मलबा हटाने में लगी हुई है। आसमान सुबह से ही बादलों से घिरा हुआ है।

वहीं, मलबा आने से प्रदेश में 75 सड़कों पर आवागमन ठप है। कुमाऊं में काली नदी खतरे के निशान के करीब है तो सरयू, गोरी के साथ ही अलकनंदा, भागीरथी, पिंडर और नंदाकिनी उफान पर हैं। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। हालात को देखते हुए प्रशासन अलर्ट पर है।

स्थानांतरण के बाद चम्पावत से उत्तरकाशी जा रहे एडीएम हेमंत कुमार की कार पर एक पत्थर आ गिरा। हालांकि चालक और एडीएम को कोई चोट नहीं लगी, लेकिन कार क्षतिग्रस्त हुई है। दूसरी ओर देहरादून जिले में विकासनगर के पास मलबे की चपेट में आने से एक ट्रक पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया, जबकि चालक जान बचाने में कामयाब रहा।

खराब मौसम का असर कैलास मानसरोवर यात्रा पर भी पड़ रहा है। आठवें दल के 58 सदस्य एक सप्ताह से पिथौरागढ़ में गुंजी जाने के लिए प्रतीक्षा कर रहे हैं। वहीं नौवें दल के 54 यात्रियों को अल्मोड़ा में रोका गया है। इसके अलावा 5वें और छठे दल के 114 सदस्य यात्रा पूरी करने के बाद पिथौरागढ़ लौटने के लिए गुंजी में फंसे हुए हैं। यही वजह है कि पिथौरागढ़ के जिला प्रशासन और यात्रा का संचालन करने वाली एजेंसी कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) ने विदेश मंत्रालय से 12वें दल की यात्रा फिलहाल स्थगित करने का अनुरोध किया है।