udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news हरदा!खेल दीजिए अपना सबसे बडा मास्टर स्ट्रोक! पीढ़िया सदियों तक करेंगी याद।

हरदा!खेल दीजिए अपना सबसे बडा मास्टर स्ट्रोक! पीढ़िया सदियों तक करेंगी याद।

Spread the love

गैरसैण ! हरदा! घोषित कर दीजिए गैरसैण को स्थाई राजधानी!

s
s
संजय चौहान
राज्य बनें 16 बरस बीत गये है लेकिन गैरसैण राजधानी का मसला आज तक सुलझ नहीं पाया। लेकिन गैरसैण को लेकर पहली बार प्रदेश के आवाम की उम्मीदों को पंख लगे है। गैरसैण विधानसभा सत्र को लेकर लोगों की टकटकी निगाहें आपके ऊपर लगी हैं। हो भी क्यों न, राजधानी का मसला जो है। हरदा जिस उद्देश्य के लिए राज्य की परिकल्पना की गयी थी वो आज नेपथ्य में चली गयी। जिन पहाड़ी जनपदो के विकास को लेकर अलग राज्य की मांग की गयी थी

cm-uk
वही जनपद राज्य बनने के 16 सालों बाद आज वीरान हो गये हैं। यदि राज्य की राजधानी गैरसैण होती तो पहाड़ी इलाकों का विकास होता लेकिन स्थिति दुःखद है। हरदा, आप तो जमीन से जुडे और खांटी राजनेता हैं। पहाड़ को जितने करीब से आप जानते हैं शायद ही कोई —?? आपने सदैव पहाड़ का हित देखा, अपने कार्यकाल के दौरान आपने मेरे बुजुर्ग मेरे तीर्थ, हिटो पहाड़, हिटो केदार, चलो गाँव, मंडुआ, चौलाई, भट्ट, ओगल, फापर, गहथ, चाल-खाल, गाड, गदेरे, मेरा गाँव मेरी सड़क, मेरा पेड़ मेरा धन, हिमालय दर्शन, पर्यटन गाँव, बोली भाषा उन्नयन संस्थान गौचर, उत्तराखंड शिल्प पुरूस्कार, जागर महाविद्यालय, हस्तशिल्प संस्थान, इंदिरा अम्मा भोजनालय, झंगोरे की खीर सहित परम्परागत भोजन, परम्परागत खेल और ठेट पहाड़ की लोकसंस्कृति, लोकजीवन, आर्थिकी और जनहित से जुड़े कार्यों को प्राथमिकता दी और हर मंचों पर प्रोत्साहित भी किया। आपने खुद स्वीकार भी किया की आप पहाड़ के वो गंगलोडु है जो इधर से उधर रगडते, पिसते हुये जायेगे लेकिन टूट नहीं सकते। साथ ही आपके कथन प्रधानमंत्री जी से बजट के लिए—- मोदी जी मेरू बजट कख हरची गे —-!
g1
ने तो हर किसी को आपका मुरीद बना दिया। आपके जिद की परिणति ही थी कि केदारनाथ आपदा पुनर्निर्माण का कार्य लगभग पूरा हो गया है। और चारधाम यात्रा एक बार फिर पटरी पर लौट आयी है। 18 मार्च के बाद राज्य में जो परिस्थितियाँ बनीं उसमें भी आपने बखूबी से पार पाया। गैरसैण को लेकर आपका सदैव सकारात्मक रूख रहा। आपने कहा भी है कि गैरसैण को लेकर आपके पास एक रोड़ मैप है। सुनियोजित मंत्र है जिसके तहत गैरसैण मे मूलभूत सुविधाएँ विकसित करने, विधानसभा भवन, विधायक आवास, सहित अन्य कार्य।
g2
गैरसैण में अब सारे कार्य पूर्ण हो गये हैं। हरदा — आपने राजनीति की हर ऊँचाईयों को छुआ है। लेकिन अब समय आ गया है कि राजनीति से इतर जनहित में फैसला लिया जाय। पूरे प्रदेश की जनता चाहती है कि गैरसैण को स्थाई राजधानी घोषित किया जाए। गैरसैण को लेकर आपकी मौन स्वीकृति से सभी परिचित है साथ ही आपके सिपहसलार गाहे बगाहे गैरसैण राजधानी की वकालत करते है । इसलिए आपसे उम्मीद है कि आप इस बार गैरसैण विधानसभा सत्र मे गैरसैण को स्थाई राजधानी घोषित करेंगे। आने वाली पीढ़ी आपको सदियों तक याद करेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.