udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news ग्रामीणो ने पंचायत कर पानी नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया

ग्रामीणो ने पंचायत कर पानी नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया

Spread the love

रुद्रप्रयाग। तत्लानागपुर क्षेत्रान्तर्गत बोरा एवं लोदला गांव में पेयजल आपूर्ति न होने से ग्रामीण जनता में हा-हाकार मचा है। विभाग के टैंकर महज खानापूर्ति साबित हो रहे हैं। ग्रामीणो ने पंचायत कर पानी नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया।
ग्राम पंचायत लोदला के ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को भेजे संयुक्ताक्षरोयुक्त ज्ञापन में कहा कि गांव में पेयजल आपूर्ति की कारगार योजना नहीं है।विगत छ: माह से जलापूर्ति बाधित चल रही है। कई बार जल संस्थान के अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है, लेकिन विभाग जनता के हितों के प्रति सजग नहीं है। ग्रामीणों ने समुचित पेयजल आपूर्ति हुए जलाशय निर्माण का प्रस्ताव विभाग को सौपा था।
आक्रोशित ग्रामीणों ने गांव को सड़क से न जोड़े जाने पर भी अपना आक्रोश जताया, साथ ही स्पष्ट किया कि मांगो का निराकरण नहीं होता तो जनता चुनाव बहिष्कार करने को बाध्य होगी। ज्ञापन में प्रधान कमला देवी, रामेश्वरी देवी, मीना देवी, गंगा देवी सहित दर्जनों ग्रामीणों के हस्ताक्षर सम्मिलित थे।
इधर, दूसरी तरफ सर्वाधिक पेयजल संकट ग्रस्त गांव बोरा में विगत लम्बे समय से पानी की समस्या बनी है। जनता दुर्गाधार तक पैदल चलकर टैंकर का पानी ढोने को मजबूर है जो समुचित आपूर्ति नहीं कर पा रही है। प्रधान शकुन्तला देवी गुसाईं ने इस संबध में रोष व्यक्त करते हुए कहा कि विभागीय अधिकारी शीतकाल में भी पेयजल आपूर्ति करवाने में अक्षम साबित हो रहे है।

उन्होंने आरोप लगाया कि विभाग द्वारा टैकरों से भी जो आपूर्ति की जा रही है, उसका कोई लेखा-जोखा नहीं है और ना ही जनप्रतिनिधियों को बताया जाता है। घण्टों टैंकरों की इंतजारी में बैठी महिलाएं हताश हैं। श्रीमती गुसाईं ने जानकारी दी कि ग्राम पंचायत की खुली बैठक में तय किया गया है कि पानी नहीं तो वोट नहीं का निर्णय हो चुका है। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की कि तत्काल नियमित एवं सुचारू पेयजल आपूर्ति करवायी जाय, ताकि जनता वोट बहिष्कार के निर्णय को वापस ले ले।