udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news विशेषज्ञों ने दिया काश्तकारों को मिश्रित खेती तथा चकबंदी करने पर जोर

विशेषज्ञों ने दिया काश्तकारों को मिश्रित खेती तथा चकबंदी करने पर जोर

Spread the love
पौड़ी:  जिला प्रशासन की पहल पर यमकेश्वर ब्लाक में आयोजित ग्राम समृद्धि एवं स्वच्छता पखवाड़ा के तहत गावों को समृद्ध करने को लेकर विशेषज्ञों ने काश्तकारों को मिश्रित खेती तथा चकबंदी करने पर जोर दिया। उन्होंने गावों में खुले में शौच की प्रथा तथा कूड़ा आदि के प्रति स्वच्छता रखने के लिए ग्रामीणों को प्रेरित किया। जिलाधिकारी ने ग्राम सभाओं को स्वच्छ बनाये रखने के लिए सभी लोगों को स्वच्छता की शपथ दिलाई। 
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के पैतृक गांव पंचुर तथा ग्राम सभा सीला में आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाधिकारी सुशील कुमार ने की। उन्होंने पहाड़ों में लगातार बंजर हो रही कृषि भूमि तथा पलायन पर चिंता जताई। उन्होंने पहाड़ों की पारम्परिक खेती के साथ-साथ पशुपालन को अपनाये जाने की पैरवी की।
उन्होंने कहा कि पौड़ी जिले के विभिन्न गावों में पहले क्षेत्रीय फसलों से खेती लहलहाती थी। पर्याप्त संसाधन न होने के बावजूद भी पहाड़ों में स्थानीय उत्पादों की भरमार थी। उन्होंने जिले में कृषि व पलायन की मौजूदा समस्या पर चिंता जताते हुए कहा कि मौजूदा समय में पौड़ी जिले में सर्वाधिक पलायन तथा कृषि भूमि सबसे अधिक बंजर हुई है। उन्होंने कहा कि केंद्र तथा प्रदेश सरकार की नीतियों को सापेक्ष पुनः गांवों को समृद्ध करने का प्रयास किया जा रहा है।
पहाड़ों की भौगोलिकता के आधार पर स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए विशेषज्ञों की मदद से काश्तकारों को उन्नत खेती की विधियां बताई जा रही हैं। जिलाधिकारी ने पहाड़ों की कृषि को पुनर्जीवित करने के लिए चकबंदी के महत्व पर रोशनी डाली। उन्होंने कहा कि चकबंदी को लेकर लोगों के तरह-तरह की भ्रांतियां हैं। जबकि चकबंदी का मुख्य उद्देश्य पहाड़ों में बिखरी खेती को एकजुट करना है।
उन्होंने कहा कि पहाड़ों में लगातार घटते जल स्रोतों को बचाने तथा कृषि योग्य भूमि को बंजर होने से बचाने के लिए चकबंदी को अपनाया जाना बेहद अहम है। कहा कि प्रशासन की ओर से किसी भी काश्तकार को चकबंदी करने के लिए बाध्य नहीं किया जायेगा। सभी किसान स्वैच्छिक चकबंदी को अपनाकर ग्राम सभाओं को समृद्ध बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि जिले में पहले से ही तीन गांवों में चकबंदी को लेकर कार्य शुरू कर दिया गया है। चकबंदी के तहत पंचुर चौथी ग्राम सभा होगी।
न्होंने अन्य ग्राम सभाओं मंे भी चकबंदी करने के लिए लोगांें की सहभागिता को अहम बताया। इस मौके पर जिलाधिकारी ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत ग्राम सभाओं में स्वच्छता अभियान को समय-समय पर संचालित करने को कहा। उन्होंने ग्राम सभा व आस पास के क्षेत्र को साफ रखने के लिए ग्रामीण जन प्रतिनिधियों तथा ग्रामीणों को बाकायदा स्वच्छता की शपथ दिलाकर अभियान को पूरा करने के लिए प्रेरित किया।
कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के पिताजी आनंद सिंह बिष्ट व भाई महेंद्र सिंह बिष्ट ने चकबंदी की विभिन्न लाभों से अवगत कराया। उन्होंने काश्तकारों को स्वैच्छिक चकबंदी करने के लिए उन्हें प्रेरित किया। इस मौके पर ब्लाक प्रमुख कृष्णा नेगी, उप ग्राम प्रधान मानेंद्र सिंह मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार जोगदंडे, उप जिलाधिकारी कोटद्वार राकेश तिवारी, परियोजना निदेशक एसएस शर्मा, एपीडी सुनील कुमार, मुख्य कृषि अधिकारी डा. देवेंद्र सिंह राणा, जिला आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डा. सुभाष चंद्र, एएमए जिला पंचायत बीडी पांडेय, उद्यान विशेषज्ञ डा. रजनीश सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी एसके त्रिपाठी समेत विभिन्न विभागों को अधिकारी व जन प्रतिनिधि उपस्थित रहे।