udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news हम श्वेत शक्ति हैं, तुम अपने देश वापस जाओ,अमेरिकी शख्स ने एशियाई के मुंह पर मारा घूंसा

हम श्वेत शक्ति हैं, तुम अपने देश वापस जाओ,अमेरिकी शख्स ने एशियाई के मुंह पर मारा घूंसा

Spread the love

वॉशिंगटन। एक अमेरिकी व्यक्ति ने एशियाई शख्स के मुंह पर घूंसा मारा और चिल्लाकर कहा ‘हम श्वेत शक्ति हैं’, ‘अपने देश वापस जाओ, तुम यहां क्या कर रहे हो?’ पुलिस ने इस मामले में अमेरिकी शख्स के खिलाफ घृणा अपराध का मामला दर्ज किया है. पुलिस ने कहा कि 48 वर्षीय स्टीवन जातोरस्की सोमवार (1 मई) को न्यूयॉर्क के थर्ड एवेन्यू में 30 वर्षीय पीडि़त से भिड़ गया और उसकी पिटाई करने लगा.
न्यूयॉर्क डेली ने पुलिस के हवाले से कहा कि फ्लेटिरॉन जिले के एक परिसर में रहने वाले जातोरस्की ने उस पर चिल्लाते हुये कहा, ‘अपने देश वापस जाओ, तुम यहां क्या कर रहे हो?’ पुलिस के मुताबिक, वह चिल्लाया कि ‘हम श्वेत शक्ति हैं’ और इसके बाद पीडि़त के मुंह पर मुक्का मार दिया. उन्होंने कहा कि पहले जातोरस्की और पीडि़त के बीच कोई बात नहीं हुई थी. जातोरस्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

 
ट्रंप प्रशासन ने घृणा अपराध मामलों की जांच के लिए टास्क फोर्स बनाया
ट्रंप प्रशासन ने हिंसक अपराधों के खिलाफ लड़ाई को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता बनाया है. साथ ही अमेरिका में हिंदुओं तथा सिख समुदाय के लोगों के खिलाफ बढ़ते घृणा अपराधों के मामलों की जांच के लिए कार्रवाई बल का गठन किया है. सीनेट की न्यायिक समिति के समक्ष धार्मिक घृणा अपराधों के लगातार बढ़ते मामलों की सुनवाई के दौरान न्याय मंत्रालय के एक अधिकारी ने अपनी गवाही के दौरान हिंदुओं तथा सिख समुदाय के लोगों के खिलाफ बढ़ते घृणा अपराधों का जिक्र किया.

 
न्याय मंत्रालय के धार्मिक भेदभाव मानवाधिकार खंड के विशेष वकील एरिक ट्रीने ने कहा, ‘‘अटॉर्नी जनरल ने घृणा अपराध के खिलाफ लड़ाई को अपनी प्राथमिकताओं में से एक बनाया है.’’ उन्होंने कहा कि हिंसक अपराध की पहली श्रेणी वह है जो कि वास्तविक अथवा कथित नस्ल, वर्ण, नागरिकता, लिंग पहचान, धार्मिक तथा अनेक मिलते जुलते कारणों पर आधारित होती है..इन्हें आम तौर पर घृणा अपराध के नाम से जाना जाता है. सीनेटर चक ग्रासले ने कहा कि धर्म आधारित घृणा अपराधों में बढोतरी हुई है.

 

 घृणा अपराध मामलों की जांच के लिए बनाया टास्क फोर्स
ट्रंप प्रशासन ने हिंसक अपराधों के खिलाफ लड़ाई को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता बनाया है. साथ ही अमेरिका में हिंदुओं तथा सिख समुदाय के लोगों के खिलाफ बढ़ते घृणा अपराधों के मामलों की जांच के लिए कार्रवाई बल का गठन किया है. सीनेट की न्यायिक समिति के समक्ष धार्मिक घृणा अपराधों के लगातार बढ़ते मामलों की सुनवाई के दौरान न्याय मंत्रालय के एक अधिकारी ने अपनी गवाही के दौरान हिंदुओं तथा सिख समुदाय के लोगों के खिलाफ बढ़ते घृणा अपराधों का जिक्र किया.

 
न्याय मंत्रालय के धार्मिक भेदभाव मानवाधिकार खंड के विशेष वकील एरिक ट्रीने ने कहा, ‘‘अटॉर्नी जनरल ने घृणा अपराध के खिलाफ लड़ाई को अपनी प्राथमिकताओं में से एक बनाया है.’’ उन्होंने कहा कि हिंसक अपराध की पहली श्रेणी वह है जो कि वास्तविक अथवा कथित नस्ल, वर्ण, नागरिकता, लिंग पहचान , धार्मिक तथा अनेक मिलते जुलते कारणों पर आधारित होती है..इन्हें आम तौर पर घृणा अपराध के नाम से जाना जाता है.सीनेटर चक ग्रासले ने कहा कि धर्म आधारित घृणा अपराधों में बढ़ोतरी हुई है.

 
चिल्लाकर कहा हम श्वेत शक्ति हैं, अपने देश वापस जाओ
एक अमेरिकी व्यक्ति ने एशियाई शख्स के मुंह पर घूंसा मारा और चिल्लाकर कहा ‘हम श्वेत शक्ति हैं’, ‘अपने देश वापस जाओ, तुम यहां क्या कर रहे हो?’ पुलिस ने इस मामले में अमेरिकी शख्स के खिलाफ घृणा अपराध का मामला दर्ज किया है. पुलिस ने कहा कि 48 वर्षीय स्टीवन जातोरस्की सोमवार (1 मई) को न्यूयॉर्क के थर्ड एवेन्यू में 30 वर्षीय पीडि़त से भिड़ गया और उसकी पिटाई करने लगा.
न्यूयॉर्क डेली ने पुलिस के हवाले से कहा कि फ्लेटिरॉन जिले के एक परिसर में रहने वाले जातोरस्की ने उस पर चिल्लाते हुये कहा, ‘अपने देश वापस जाओ, तुम यहां क्या कर रहे हो?’ पुलिस के मुताबिक, वह चिल्लाया कि ‘हम श्वेत शक्ति हैं’ और इसके बाद पीडि़त के मुंह पर मुक्का मार दिया. उन्होंने कहा कि पहले जातोरस्की और पीडि़त के बीच कोई बात नहीं हुई थी. जातोरस्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया