udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news नदी में खुलेआम कर रहे हैं शौच निर्माण कार्य में लगे मजदूर !

नदी में खुलेआम कर रहे हैं शौच निर्माण कार्य में लगे मजदूर !

Spread the love

गौरीकुंड में खुल रही स्वच्छ भारत मिशन योजना की पोल

रुद्रप्रयाग। एक ओर जनपद रुद्रप्रयाग में स्वच्छ भारत मिशन योजना पर विशेष जोर दिया जा रहा है। वहीं जगह-जगह पुनर्निर्माण कार्य में लगे मजदूर नदी-नालों को गंदा करने में लगे हुये हैं। स्थिति यह है कि जिस पानी को निचले क्षेत्रों के लोग पीने के रूप में उपयोग में लाते हैं, वहीं ऊपरी क्षेत्रों में कार्य करने वाले लोग इसी पानी को गंदा कर रहे हैं। स्थिति यह है कि मंदाकिनी नदी में ही मजदूर खुलेआम शौच कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन के साथ ही संबंधिक कार्यदायी संस्था का इस ओर कोई ध्या नही नहीं है।
जनपद में स्वच्छ भारत मिशन योजना का खूब प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। आम जनता को स्वच्छता के बारे में जगह-जगह कार्यशालाएं आयोजित करके समझाया जा रहा है। विद्यार्थी भी समय-समय पर स्वच्छता को लेकर जन जागरूकता रैली निकाल रहे हैं। इसी कड़ी में जिला ओडीएफ भी घोषित हो चुका है, लेकिन जिले में जगह-जगह कार्य करने वाले मजदूर खुलेआम स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां उड़ा रहे हैं। जनपद में इन दिनों जगह-जगह पुनर्निर्माण कार्य चल रहे हैं।
खासकर केदारनाथ यात्रा पड़ावों पर आगामी यात्रा को देखते हुये कार्य तेजी से चल रहे हैं। केदारनाथ यात्रा के मुख्य पड़ाव सोनप्रयाग, गौरीकुंड, सीतापुर आदि स्थानों पर पार्किंग, बाढ़ सुरक्षा आदि के कार्य चल रहे हैं। कार्य करने वाले मजदूरों की संख्या भी काफी अधिक है, लेकिन ये मजदूर स्वच्छता का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रख रहे हैं। खासकर गौरीकुंड की बात करें तो गौरीकुंड में मंदाकिनी नदी की पवित्रता को मजदूरों द्वारा तार-तार किया जा रहा है। गौरीकुंड में रह रहे मजदूर खुलेआम मंदाकिनी में शौच कर रहे हैं।
गौरीकुंड में मंदाकिनी नदी किनारे देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि नदी को किस प्रकार मजदूर प्रदूषित कर रहे हैं। हालांकि गौरीकुंड में प्रशासन की ओर से कुछ शौचालय भी बनाये गये हैं, लेकिन यह शौचालय खराब हो चुके हैं। पिछले यात्रा के दौरान निर्मित शौचालय को प्रशासन ने कपाट बंद होने के बाद हटा दिया था, जिस कारण यह दिक्कतें आ रही हैं। निर्माण कार्य में लगे मजदूरों का भी यही कहना है कि शौचालय न होने के कारण खुले में शौच जाना पड़ रहा है।
वहीं इस संबंध में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि गौरीकुंड में जो शौचालय निर्मित थे, वह खराब हो चुके हैं और नये शौचालय मंगाये गये हैं। खुले में शौच करने के लिये मजदूरों को मना किया गया है।
https://youtu.be/uGWGFAUTnIY