udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news यात्रा शुरू होने में महज एक माह का समय, राजमार्ग के हालत खस्ता

यात्रा शुरू होने में महज एक माह का समय, राजमार्ग के हालत खस्ता

Spread the love

बद्रीनाथ व केदारनाथ राजमार्ग की स्थिति बनी है भयावह
जगह-जगह डेंजर जोन पर सफर करना होगा मुश्किल

रुद्रप्रयाग। चारधाम यात्रा शुरू होने में महज एक माह का समय शेष रह गया है, लेकिन बद्रीनाथ और केदारनाथ हाइवे की स्थिति जगह-जगह खस्ताहाल बनी हुई है। जहां बद्रीनाथ हाइवे का काम बीआरओ संभाले हुए है, वहीं केदारनाथ हाइवे की स्थिति सुधारने का जिम्मा लोनिवि राष्ट्रीय राजमार्ग खण्ड को सौंपा गया है, मगर दोनों ही विभागों ने राजमार्ग की स्थिति को नहीं सुधारा है। ऐसे में बद्री-केदार की यात्रा में आने वाले तीर्थ यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।

अप्रैल माह से भगवान बद्रीनाथ और केदारनाथ की यात्रा शुरू हो जायेगी और देश-विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु देवभूमि में आना शुरू हो जायेंगे, लेकिन उन्हें इस बार यात्रा मार्गों पर काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। वर्ष 2013 की आपदा के बाद जहां केदारनाथ हाईवे की स्थिति नहीं सुधर पाई है, वहीं बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग की हालत सालों से बदतर बनी हुई है।

बद्रीनाथ राजमार्ग के सिरोबगड़ में हाईवे हर साल बरसात के दौरान बंद रहता है और यात्रा पर आये श्रद्धालुओं को घंटो जाम में फंसा रहना पड़ता है। इसके अलावा राजमार्ग के घोलतीर और शिवनंदी में राजमार्ग खतरनाक बना हुआ है। यहंा पर बीआरओ कटिंग का काम कर रहा है, जो आज तक पूरा नहीं हो पाया है।

बीआरओ की लेटलतीफी के कारण स्थानीय यात्रियों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हर दिन राजमार्ग पर बोल्डर और मलबा आ जाता है, जिसे साफ करने में बीआरओ के पसीने छूट जाते हैं। सबसे बड़ी दुखद की बात यह भी की सिरोबगड़ की समस्या वर्ष 1998 की है, जिसका ट्रीटमेंट आज तक नहीं हो पाया है।

केदारनाथ हाईवे की बात की जाय तो यह राजमार्ग भी जगह-जगह खस्ताहाल हालत में है। आपदा को पूरे पांच साल का समय होने वाला है और सेमी में आज तक राजमार्ग को दुरूस्त नहीं हो पाया है। बरसात के दौरान राजमार्ग पर वाहन चलाना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा केदारनाथ राजमार्ग के फाटा, खाट और सोनप्रयाग में भी राजमार्ग की स्थिति भयावह बनी हुई है।

ऐसे में यात्रियों को संभलकर यात्रा करनी पड़ेगी। हालांकि इस यात्रा सीजन से पहले ऑल वेदर रोड़ का निर्माण कार्य शुरू हो गया है, लेकिन यात्रा तक कार्य पूर्ण नहीं हो पायेगा। ऐसे में यात्रियों की दिक्कतें भी कम नहीं होंगी। वहीं जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग खण्ड को हाईवे की स्थिति दुरूस्त करने के लिये कहा गया है। जहां भी गढड़े पड़े हैं। उन्हें दुरूस्त किया जायेगा। बरसात के समय विशेष तौर पर सतर्कता बरती जायेगी।